Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
लंदन की डिग्री, गोल्ड मेडल से सम्मानित हुये डा. वी.के. वर्मा वंचित छात्रों को शुल्क प्रतिपूर्ति, छात्रवृत्ति दिलाने की मांग को लेकर पद यात्रा निकालेगी मेधा सफाई कर्मचारी संघ: डीपीआरओ को सौंपा 12 सूत्रीय ज्ञापन, समस्याओं के निस्तारण की मांग पीएम आयुष्मान योजना: पहले से बना था कार्ड, मिला आयुष्मान का वरदान आदर्श पौधशाला तथा राजकीय सार्वजनिक उद्यान चंगेरवा का डीएम ने किया निरीक्षण डीएम के निर्देश पर रूधौली तहसील मे चला बृहद अवैध अतिक्रमण हटाओ अभियान डीएम ने दिया वाल्टरगंज चीनी मिल के कर्मचारियों का वेतन दिलाने का आश्वासन बीआरसी में तीन दिवसीय टीएलएम निर्माण कार्यशाला शुरू संविदा कर्मियों से परिषदीय शिक्षकों, शिक्षा मित्रों, अनुदेशकों की जांच का मामला गरमाया गांव – गांव में परिवार नियोजन की अलख जगा रहा है सारथी वाहन

सीएम भूपेश बघेल बोले- हम दलबदल नहीं चाहते, हमारे पास पर्याप्त विधायक

रायपुर जरा हटके। मरवाही उपचुनाव से पहले मंत्री जयसिंह अग्रवाल के बयान के बाद जोगी कांग्रेस में खींचतान मची हुई है। सियासत के बीच मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने साफ कर दिया कि जोगी कांग्रेस के विधायक कांग्रेस में आना चाहते हैं, लेकिन वह दलबदल नहीं चाहते ।उन्होंने कहा कि हमारे पास पर्याप्त विधायक है। इसलिए हम जल्दबाजी में कोई निर्णय नहीं करना चाहते हैं। लेकिन इस पर हाईकमान को ही फैसला करना है। दूसरी तरफ देवव्रत सिंह ने दो टूक शब्दों में स्वीकार किया कि उनको कांग्रेस में ही अपना भविष्य दिखता है और वे उचित समय आने पर कांग्रेस में शामिल हो जाएंगे। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में दो ही पार्टी कांग्रेस और भाजपा का भविष्य है। कांग्रेश हमारे खून में है। कांग्रेस से ही 3 बार विधायक और एक बार सांसद बना। भावनात्मक रूप से कांग्रेसी है लेकिन संवैधानिक रूप से जोगी कांग्रेस के विधायक हैं। इसलिए अभी हम पार्टी में बने रहेंगे। यदि चार में से तीन विधायक कांग्रेस में शामिल होने पर सहमत होते हैं और कांग्रेस इस पर सहमति देती है तो हम कांग्रेस पार्टी में जाएंगे।देवव्रत ने कहा कि जोगी कांग्रेस के कांग्रेस में विलय की बात पिछले डेढ़ साल से चल रही है।
विधायक देवव्रत सिंह के बयान के बाद बलौदाबाजार विधायक प्रमोद शर्मा ने भी देवव्रत के साथ खड़े होने की बात कही है। उन्होंने कहा कि वे विधायक देवव्रत के साथ हैं। देवव्रत जिस पार्टी में जाना चाहते हैं, मैं उनके साथ रहूंगा। उन्होंने आगे कहा कि छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस की सुप्रीमो रहे अजीत जोगी उनके राजनीतिक गुरु थे। लेकिन अब उनके जाने के बाद वे विधायक देवव्रत सिंह के साथ हैं।