Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
फ्रंटलाइन वर्कर तथा वरिष्ठ नागरिकों से कोविड-19 की प्रिकॉशन डोज लगवाने की अपील रोटरी मण्डल 3120 के सहायक मण्डलाध्यक्ष बने आशीष श्रीवास्तव वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से दी गई स्वीप, शिकायत, मीडिया मानीटरिंग, एनवीडी के संबंध में विस्तार ... 23 जनवरी को दो पालियों में करायी जायेंगी टेट की परीक्षा सांस से सम्बन्धित कोविड मरीजों के लिए लाभकारी है चेस्ट फिजियोथैरेपी एक दिन में कोरोना संक्रमण के 17,776 नये मामले आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन पर यूपी मे अब तक 167 लोगों के विरूद्ध एफआईआर दर्ज घर से नाराज़ होकर मुंबई पहुंच गई बालिका को सीडब्लयूसी ने उसके पिता को सौंपा विधान सभा चुनाव को लेकर बैठक मे सौंपी गई जिम्मेदारियां गृह भ्रमण कर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता देंगी पांच सेवाएं

अवैध रूप से प्लाटिंग करने वालों और जनक नंदिनी ट्रस्ट से संबंध जमीन हड़पने वालों पर जल्द होगी बड़ी कार्रवाई

भाटापारा । क्षेत्र में अवैध रूप से बिकी और बेची जा रही जमीनों पर विभागीय जांच जारी है। अवैध प्लाटिंग करने वालों को नोटिस भेजने के बाद आगे कार्यवाही का इंतजार हो रहा है। दूसरी ओर जनक नंदिनी ट्रस्ट से संबंध जमीनों के मामले में राजस्व विभाग द्वारा सूची तैयार की जा रही है। तहसीलदार अग्रवाल ने बताया कि शासन से मार्गदर्शन मांगा गया था, जिससे कार्यवाही में समय लगा। वास्तव में 100 एकड़ से ज्यादा जमीनों का मामला है, और इनके बहुत टुकड़े अलग-अलग खातों में दर्ज है ।प्रत्येक खातों का मिलान कर पृथककरण कर सूची तैयार की जा रही है। पूरी सूची बनने के बाद आदेशानुसार कार्यवाही की जाएगी।
उल्लेखनीय है कि ट्रस्ट की 100 एकड़ भूमि के दशकों में हुए सभी नामांतरण व पंजीयन रद्द कर शासनाधीन दर्ज करने के आदेश की चर्चाओं से, शहर में भूमि क्रय करने वाला बड़ा तबका परेशान है। 20 -30 वर्षों पूर्व जमीन खरीदने वाले भी दायरे में आने से हड़कंप की स्थिति है।
शहर में अभी भी धड़ल्ले से अवैध प्लाटिंग का काम जोरों से जारी है। नगर निवेश की नोटिस मिलने का प्लाटिंग करने वालों पर असर नहीं दिख रहा। प्लाट खरीदने वाले जरूर भ्रम व भय की स्थिति में है।पूर्व में भी सरकार की कार्यवाही कभी नोटिस से आगे नहीं बढ़ी इसलिए वर्तमान में भी जमीन के कारोबारी ज्यादा गंभीर नजर नहीं आ रहे हैं।

शासन के आदेशानुसार उक्त सभी भूखंड अब शासकीय भूमि के रूप में दर्ज होने हैं।बहुत ज्यादा नंबर होने की वजह से सूचीबद्ध करने में समय लग रहा है।

तहसीलदार, भाटापारा

विभाग द्वारा सभी अवैध कॉलोनाइजर को नोटिस भेजी गई है, और विवेचना कर शीघ्र अगली कार्रवाई होगी

नगर निवेश, अधिकारी

Leave A Reply

Your email address will not be published.