Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
मातृ शिशु स्वास्थ्य सेवाओं के लिए वरदान है एमसीपी कार्ड नवजात शिशु में जन्‍मजात विकृतियों को दूर करता है फोलिक एसिड गुरू जी की अकड पडी ढीली कर दिए गये निलम्बित दहेज उत्पीड़न के दो मामलों में 10 ससुरालियों पर केस पेन्शनर एसोसिएशन की बैठक 5 को पुरानी पेशन नीति बहाली की मांग को लेकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपेगे शिक्षक युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य एवं जीवन कौशल पर विशेष कार्यशाला का शुभारम्भ इलाज के दौरान समझा टीबी मरीजों का दर्द,  अब बने मददगार  नोडल अधिकारी नीना शर्मा ने रुधौली ब्लाक में चौपाल लगाकर सुनीं समस्याऐ जिले की नोडल अधिकारी के निरीक्षण में सब कुछ मिला गुड ही गुड

बजटः किसी ने की तारीफ, किसी ने कहा कर्मचारियों के लिये कुछ नहीं

बस्तीः सदर विधायक दयाराम चौधरी ने पांचवे पूर्ण पेपरलेस बजट पर कहा है कि यह बजट जय जवान, जय किसान को समर्पित है। 5,50,270.78 करोड़ रुपये के बजट मे किसानों, युवाओं को रोजगार, उद्योगों के विकास, किसानों को मुफ्त पानी की सुविधा के लिए 700 करोड़ रुपये की व्यवस्था है। इस बजट से प्रदेश के विकास की गति तेज होगी और जहां अन्नदाता की आय दो गुनी होगी। बजट मील का पत्थर है वहीं महिलाओं को उद्यमी बनाने, उनकी सुरक्षा आदि पर पर्याप्त ध्यान है। आत्मनिर्भर भारत को समर्पित यह बजट सभी वर्गो के लिये कल्याणकारी है।

वहीं राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद उत्तर प्रदेश ‘एस.पी. तिवारी गुट’ के जिलाध्यक्ष अतुल कुमार पाण्डेय ने बजट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये कहा है कि इस बजट से प्रदेश के कर्मचारियों में घोर निराशा है। बजट में सरकारी कर्मचारियों के लिये कुछ भी नहीं है। बहुत उम्मीद थी कि पुरानी पेंशन नीति बहाली की दिशा में प्रदेश सरकार पहल करेगी और राज्य कर्मचारियों के लम्बित मामलों को निस्तारित करने की दिशा में बजटीय प्राविधान होगा किन्तु इस पेपरलेस बजट में कर्मचारी पूरी तरह से उपेक्षित है। कहा कि बजट में कोरोना यौद्धाओं को भी सरकार ने अनदेखी कर दिया। अल्प वेतन भोगी और मध्यम वर्ग के लोग कोरोना काल में सर्वाधिक परेशान रहे। उन्हें कोई राहत नहीं दी गई है।