Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
लंदन की डिग्री, गोल्ड मेडल से सम्मानित हुये डा. वी.के. वर्मा वंचित छात्रों को शुल्क प्रतिपूर्ति, छात्रवृत्ति दिलाने की मांग को लेकर पद यात्रा निकालेगी मेधा सफाई कर्मचारी संघ: डीपीआरओ को सौंपा 12 सूत्रीय ज्ञापन, समस्याओं के निस्तारण की मांग पीएम आयुष्मान योजना: पहले से बना था कार्ड, मिला आयुष्मान का वरदान आदर्श पौधशाला तथा राजकीय सार्वजनिक उद्यान चंगेरवा का डीएम ने किया निरीक्षण डीएम के निर्देश पर रूधौली तहसील मे चला बृहद अवैध अतिक्रमण हटाओ अभियान डीएम ने दिया वाल्टरगंज चीनी मिल के कर्मचारियों का वेतन दिलाने का आश्वासन बीआरसी में तीन दिवसीय टीएलएम निर्माण कार्यशाला शुरू संविदा कर्मियों से परिषदीय शिक्षकों, शिक्षा मित्रों, अनुदेशकों की जांच का मामला गरमाया गांव – गांव में परिवार नियोजन की अलख जगा रहा है सारथी वाहन

पत्रकार उत्पीड़न पर गंभीर हुआ भारतीय प्रेस परिषद, डीएम एसपी सहित 6 जिम्मेदारों से मांगा जवाब

बस्ती। अक्टूबर 2019 में वाल्टरगंज थाना क्षेत्र में हुये गम्मज हत्याकांड में गिरफ्तार आरोपी का जनेऊ उतरवाकर उसके साथ अमानवीय व्यवहार किये जाने की निष्पक्ष खबर लिखने पर पत्रकार दिनेश प्रसाद मिश्र के खिलाफ स्थानीय पुलिस ने 13 दिन के अंदर ताबड़तोड़ चार मुकदमे दर्ज किये थे और एक आपराधिक इतिहास बनाते हुए उन पर गुंडा एक की भी कार्यवाही प्रशासन द्वारा किया गया। पीड़ित वरिष्ठ पत्रकार दिनेश मिश्र ने पूरे प्रकरण को भारतीय प्रेस परिषद में उठाया। मामले को गंभीरता से लेते हुये भारतीय प्रेस परिषद ने इसे प्रेस की स्वतंत्रता पर कुठाराघात माना और मुख्य सचिव उ.प्र. शासन, सचिव गुह (पुलिस विभाग), पुलिस महानिरीक्षक ए.के. राय, जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन, पुलिस कप्तान हेमराज मीणा तथा प्रभारी निरीक्षक कोतवाली रामपाल यादव को नोटिस भेजकर दो हफ्ते के अंदर लिखित जवाब मांगा है। प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के इस पत्र को मिलने के बाद प्रशासन में हड़कंप का माहौल है।