Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
यूपी की भाजपा सरकार को तिरंगा यात्रा भी लगता है अवैध- संजय सिंह जागरूकता का परिचय दें अन्त्योदय कार्ड धारक, बनवाएं आयुष्मान कार्ड 30 अक्टूबर तक जिले के सभी बैंक शाखाओं पर आयोजित किया जायेंगा कैम्प सपा की मासिक बैठक में बनी रणनीति इस बार दीपवाली में 11 फिट के दिये के साथ जगमगाएगा अमहट घाट श्रमिको के लिए कल्याणकारी योजनाओं को संचालित कर रही है प्रदेश सरकार-सुनील कुमार भराला टीकाकरण कर्मियों की लगन का फल है सफल टीकाकरण एक माह में नौ हजार अंत्योदय लाभार्थियों ने किया आवेदन श्री रामलीला महोत्सव में गुरुवार को राम बारात एवं राम विवाह का किया गया मंचन 100 करोड़ कोविड टीकाकरण में जिले ने दिया 8.55 लाख का योगदान

पत्रकार उत्पीड़न पर गंभीर हुआ भारतीय प्रेस परिषद, डीएम एसपी सहित 6 जिम्मेदारों से मांगा जवाब

बस्ती। अक्टूबर 2019 में वाल्टरगंज थाना क्षेत्र में हुये गम्मज हत्याकांड में गिरफ्तार आरोपी का जनेऊ उतरवाकर उसके साथ अमानवीय व्यवहार किये जाने की निष्पक्ष खबर लिखने पर पत्रकार दिनेश प्रसाद मिश्र के खिलाफ स्थानीय पुलिस ने 13 दिन के अंदर ताबड़तोड़ चार मुकदमे दर्ज किये थे और एक आपराधिक इतिहास बनाते हुए उन पर गुंडा एक की भी कार्यवाही प्रशासन द्वारा किया गया। पीड़ित वरिष्ठ पत्रकार दिनेश मिश्र ने पूरे प्रकरण को भारतीय प्रेस परिषद में उठाया। मामले को गंभीरता से लेते हुये भारतीय प्रेस परिषद ने इसे प्रेस की स्वतंत्रता पर कुठाराघात माना और मुख्य सचिव उ.प्र. शासन, सचिव गुह (पुलिस विभाग), पुलिस महानिरीक्षक ए.के. राय, जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन, पुलिस कप्तान हेमराज मीणा तथा प्रभारी निरीक्षक कोतवाली रामपाल यादव को नोटिस भेजकर दो हफ्ते के अंदर लिखित जवाब मांगा है। प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के इस पत्र को मिलने के बाद प्रशासन में हड़कंप का माहौल है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.