Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
 31 मई तक पूरे जिले में चलाया जाएगा गर्भवती के लिए विशेष अभियान जिले में 1480 लोगों को ऋण देकर उपलब्ध कराया जायेंगा रोजगार: एडीएम रंजन सिंह अध्यक्ष, दिनेश कुमार मंत्री बने प्रभात फेरी निकालकर दिया सड़क सुरक्षा जागरूकता का संदेश 44 गैर मान्यता प्राप्त विद्यालयों को बीएसए ने जारी किया दूसरी नोटिस मिट्टी की गुण्वत्ता बचाने के लिये चला जागरूकता अभियान डीएम के आदेश को भी नही मानती बस्ती पुलिस, पत्रकारों ने सौंपा ज्ञापन, मुकदमा दर्ज कराने की मांग ललितपुर: पाली थाने में किशोरी से दुष्कर्म मामले में शासन के निर्देश पर एसआईटी का गठन, जांच शुरू अर्यांश ने अपने नए रैप सांग ‘लाइफ‘ में किया 20 भाषाओं का प्रयोग, डीएम ने प्रशस्ति पत्र देकर किया सम्... राष्ट्रीय राजमार्ग पर लगेंगे सीसी टीवी कैमरे, आटोमेटिक मशीन करेगी दनादन चालान, कवायद शुरू

पत्रकार उत्पीड़न पर गंभीर हुआ भारतीय प्रेस परिषद, डीएम एसपी सहित 6 जिम्मेदारों से मांगा जवाब

बस्ती। अक्टूबर 2019 में वाल्टरगंज थाना क्षेत्र में हुये गम्मज हत्याकांड में गिरफ्तार आरोपी का जनेऊ उतरवाकर उसके साथ अमानवीय व्यवहार किये जाने की निष्पक्ष खबर लिखने पर पत्रकार दिनेश प्रसाद मिश्र के खिलाफ स्थानीय पुलिस ने 13 दिन के अंदर ताबड़तोड़ चार मुकदमे दर्ज किये थे और एक आपराधिक इतिहास बनाते हुए उन पर गुंडा एक की भी कार्यवाही प्रशासन द्वारा किया गया। पीड़ित वरिष्ठ पत्रकार दिनेश मिश्र ने पूरे प्रकरण को भारतीय प्रेस परिषद में उठाया। मामले को गंभीरता से लेते हुये भारतीय प्रेस परिषद ने इसे प्रेस की स्वतंत्रता पर कुठाराघात माना और मुख्य सचिव उ.प्र. शासन, सचिव गुह (पुलिस विभाग), पुलिस महानिरीक्षक ए.के. राय, जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन, पुलिस कप्तान हेमराज मीणा तथा प्रभारी निरीक्षक कोतवाली रामपाल यादव को नोटिस भेजकर दो हफ्ते के अंदर लिखित जवाब मांगा है। प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया के इस पत्र को मिलने के बाद प्रशासन में हड़कंप का माहौल है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.