Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
लगातार चौथी बार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य बने वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रेमशंकर द्विवेदी 08 अक्टबूर को लखनऊ जायेंगे कांग्रेस सेवादल के कार्यकर्ता व पदाधिकारी पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ हेतु सपा समर्थको ने किया हवन जयंती पर आचार्य रामचन्द्र शुक्ल को किया नमन् उपेक्षित प्रतिमा को विकसित करने की मांग   आचार्य रामचन्द्र शुक्ल को जयंती पर किया नमन गायत्री शक्तिपीठ पर महानवमी के दिन किया गया हवन, पूजन पुलिस अधीक्षक ने वैदिक मंत्रोच्चारण के बीच किया बहादुरपुर पुलिस चौकी का उद्घाटन गैंगरेप का 1 आरोपी डाक्टर गिरफ्तार, दो अभी भी फरार सवारियां बिठा कर जा रही दो ट्रैक्टकर ट्राली समेत 3 वाहन सीज गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को पद से बर्खास्त करने की मांग

मशरूम उत्पादन में उत्कृष्ट कार्य के लिए से शिवेंद्र सिंह हुए सम्मानित

बस्ती – भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद- कृषि प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान, कानपुर के 13वें संस्थान स्थापना दिवस के अवसर पर आज शुक्रवार को नवोन्मेष प्रगतिशील कृषक कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसके मुख्य अतिथि भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद- नई दिल्ली के उप महानिदेशक (कृषि प्रसार) डॉ.ए.के. सिंह एवं विशिष्ट अतिथि भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान कानपुर के निदेशक डॉ एन.पी. सिंह थे। मुख्य अतिथि डॉ ए.के. सिंह ने अपने संबोधन में कृषि के विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले कृषको की सराहना करते हुए कहा कि इनके द्वारा विकसित एवं अपनाई गई तकनीकों का वृहद स्तर पर प्रचार-प्रसार करने की आवश्यकता है जिससे पूरे देश में इन तकनीकों के माध्यम से कृषको के आय में वृद्धि हो सके, जिसके लिए भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद पूर्ण रूप से सहयोग देगा। विशिष्ट अतिथि डॉ. एन.पी. सिंह ने प्रगतिशील कृषकों द्वारा विकसित तकनीकों पर चर्चा करते हुए कहा कि देश को दलहन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने में कृषकों द्वारा विकसित तकनीकों का संकलन करके इसमें थोड़ा वैज्ञानिक विधि से सुधार करते हुए पूरे देश में बढ़ावा देने की आवश्यकता है इसमें संस्थान पूरा सहयोग प्रदान करने के लिए हमेशा उपलब्ध है।
अटारी के निदेशक डॉ अतर सिंह ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि प्रगतिशील कृषकों द्वारा विकसित तकनीकों को प्रदेश के समस्त जिलों में स्थापित कृषि विज्ञान केंद्रों के माध्यम से इसका प्रचार-प्रसार किया जाएगा। इस अवसर पर प्रदेश के सभी जिलों के नवोन्मषी प्रगतिशील कृषक कृषि विज्ञान केंद्रो के वैज्ञानिक उपस्थित थे जिसमें से कृषि विज्ञान केंद्र, बस्ती के माध्यम से बटन मशरूम उत्पादन के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य हेतु शिवेंद्र सिंह निवासी ग्राम- दिवाकरपुर, हरैया, बस्ती को प्रशस्ति पत्र देकर भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद-कृषि प्रौद्योगिकी अनुप्रयोग अनुसंधान संस्थान, (अटारी) कानपुर द्वारा सम्मानित किया गया जिस पर केंद्र के अध्यक्ष डॉ. एस.एन. सिंह ने प्रशन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि श्री शिवेंद्र सिंह बहुत ही मेहनती और कर्मठ व्यक्ति है और इन्होंने छोटे स्तर से मशरूम उत्पादन का कार्य प्रारंभ किया तथा आज पूरे जनपद के लिए रोल मॉडल हैं और इन के माध्यम से जनपद का हरैया विकमशरूम उत्पादन हब बन गया है तथा विभिन्न विकासखंडों में भी इसके उत्पादन की तरफ किसान रुचि ले रहे हैं, इसे और विकसित करने में कृषि विज्ञान केंद्र, बस्ती पूर्ण सहयोग देने के लिए हमेशा तत्पर है।शिवेंद्र सिंह को प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किये जाने पर कृषि विज्ञान केंद्र, बस्ती के पशुपालन वैज्ञानिक ड़ॉ डी.के. श्रीवास्तव, फसल सुरक्षा वैज्ञानिक डॉ प्रेम शंकर, प्रक्षेत्र प्रबंधक डॉ राकेश शर्मा, कृषि प्रसार वैज्ञानिक आर.वी.सिंह, गृह विज्ञान वैज्ञानिक वीना सचान, केंद्र के सभी कर्मचारीगण तथा जनपद के कृषकों ने प्रसन्नता व्यक्त किया।