Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
100 करोड़ कोविड टीकाकरण में जिले ने दिया 8.55 लाख का योगदान 28 अक्टूबर से 4 नवंबर तक किया जाएगा दीपावली मेला का आयोजन पौराणिक कूओ का जीर्णोद्धार एवं वृक्षारोपण कार्यक्रम का शुरुआत ई-प्राजीक्यूशन पोर्टल पर नियमित रूप से मुकदमों का विवरण अपलोड करने के निर्देश कांग्रेस की बैठक में बनी प्रियंका गांधी के रैली की रणनीति श्री रामलीला महोत्सव में धनुषयज्ञ व परशुराम लक्ष्मण संवाद की लीला का हुआ मंचन,श्रद्धालु हुए मंत्रमुग... डियूटी मे लापरवाही बरतने वाले 7 पुलिस कर्मियों पर गिरी निलम्बन की गाज, विभागीय जांच शुरू कोरोना से बचने के लिए शुरु हुई फेस्टिवल फोकस्ड सैम्पलिंग प्रत्येक ब्लाक में प्रतिदिन 05 हजार कोविड टीकाकरण का लक्ष्य पूरा करने के निर्देश अतिवृष्टि से खराब हुयी फसल की क्षतिपूर्ति प्राप्त करने के लिए निर्धारित प्रारूप पर आवेदन कर सकते हैं...

लॉकडाउन में गरीबों और जरूरतमंदों की मददगार अन्नपूर्णा रसोई ने पूरे किए दो वर्ष

– अन्नपूर्णा रसोई की शुरुआत 18 अप्रैल 2019 को पुरानी बस्ती क्षेत्र के करुआ बाबा चौक स्थित हनुमान मंदिर से हुआ था सेवा का शुरूआत्

बस्ती । पिछले वर्ष लॉकडाउन में गरीबों और जरूरतमंदों की मदद हेतु जिले में तमाम लोग संकटमोचन बनकर काम किये लेकिन बस्ती जिले में अन्नपूर्णा रसोई का जो काम रहा वह निश्चित ही सराहनीय रहा । कहते हैं कि किसी भूखे को भोजन देना जीवन का सबसे बड़ा दान है क्योंकि अन्न ही जीवन संचालित करता है। असहाय, वृद्धों व जरूरतमंदों के भूख की पीड़ा को देखते हुए 2 वर्ष पूर्व कुछ उत्साही लोगों द्वारा सामाजिक सहयोग से संचालित की गई अन्नपूर्णा रसोई रसोई की शुरुआत 18 अप्रैल 2019 को पुरानी बस्ती क्षेत्र के करुआ बाबा चौक स्थित हनुमान मंदिर पर की गई थी तब से लेकर आज तक मां अन्नपूर्णा की कृपा से यह रसोई सामाजिक सहयोग से चल रही है । रविवार 18 अप्रैल 2021 को अन्नपूर्णा रसोई के 2 वर्ष पूर्ण होने पर अन्नपूर्णा रसोई परिवार ने सभी दानदाताओं, सेवादारों को शुभकामनाएं देते हुए धन्यवाद भी दिया है। अन्नपूर्णा रसोई के संचालन राघवेंद्र मिश्र ने बताया कि पिछले वर्ष लॉकडाउन के दौरान हमारी टीम ने बहुत मेहनत की । बाहर से आने वाले राहगीरों को तथा शहर में लॉकडाउन के दौरान भूखे रह रहे गरीबों को, मजदूरों को हमने लंच पैकेट उपलब्ध कराया। इसमें हमारी पूरी टीम ने तन, मन, धन से हमारा सहयोग किया हम उन सभी लोगों का धन्यवाद देते हैं। उन्होंने बताया कि आगे भी हमारा यह प्रयास जारी रहेगा। श्री मिश्र ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान भूखे लोगों का पेट भरने के लिए रसोई से हजारों की संख्या में खाने के पैकटों का विभिन्न क्षेत्रों में वितरण किया गया। आज भी सामाजिक सहभागिता के जरिए चल रही यह रसोई जरूरतमंदों और श्रमिकों के परिजनों का पेट भरनेे का मुख्य माध्यम बन रही हैं । वर्तमान समय में रसोई में रोजाना जरूरतमंदों को भोजन कराया जा रहा है। भोजन बनाने के साथ वितरण के वक्त कोरोना प्रोटोकॉल के साथ ही सैनेटेशन का भी पूरा ध्यान दिया जा रहा है। मास्क व ग्लब्स पहनकर ही काम व खाने का वितरण किया जा रहा है। बातचीत के दौरान राघवेंद्र मिश्र ने बताया कि सामाजिक सहभागिता से संचालित रसोई में रोजाना सैकड़ों लोगों को भोजन कराया जा रहा है जो आगे भी निरंतर चलता रहेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.