Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
टीकाकरण में शिथिलता एवं लापरवाही पाये जाने पर 06 प्रभारी चिकित्साधिकारियों तथा 04 खण्ड विकास अधिकारि...  धान क्रय केन्द्र के संचालन में शिथिलता एवं लापरवाही पाये जाने पर गिरा तीन अधिकारियों पर कार्यवाही क... अगर बेटा परेशान करे तो मां-बाप डायल करें 14567 एल्डर हेल्पलाईन नम्बर कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु पर डीएम ने वितरित किया राज्य सरकार द्वारा घोषित रू0 50... समान वेतन, अधिकारों की मांग को लेकर संविदा कर्मियों ने मुख्यमंत्री को भेजा 7 सूत्रीय ज्ञापन व्यापारी से 10 लाख की रंगदारी मांगने वाले 3 अभियुक्त पहुंचे जेल छुट्टी बिताकर लौटने वालों की कोविड जांच के बाद ही होगी ज्वाइनिंग खेल के आयोजन में योगदान करने वालों को मिला पुरस्कार, प्रमाण-पत्र 45 बच्चों को ऑपरेशन से मिला नया जीवन महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनन्दीबेन पटेल का जिले मे आगमन को लेकर तैयारियों की समीक्षा

हनुमानगंज में फर्जी आधारकार्ड पर मतदान का आरोप

 

पुर्न मतदान कराने की मांग

बस्ती। रूधौली विकास खण्ड के ग्राम पंचायत हनुमानगंज के निवासी नीरज जायसवाल ने जिला निर्वाचन अधिकारी सहित अनेक उच्चाधिकारियांें को रजिस्टर्ड पत्र भेजकर आरोप लगाया है कि फर्जी आधारकार्ड के आधार पर मतदान कराकर उनकी पत्नी प्रत्याशी पूनम जायसवाल को षड़यंत्रपूर्वक 89 मतों से पराजित करा दिया गया। मांग किया है कि चुनाव की निष्पक्षता के लिये पुनः मतदान कराया जाय और फर्जी आधारकार्ड बनाने वाले जिन्हें मतदान के दिन रूधौली पुलिस ने पकड़ा और बाद में छोड़ दिया गया उनके विरूद्ध कार्रवाई की जाय।
भेजे पत्र में नीरज जायसवाल ने कहा है कि मतदान के दिन 29 अप्रैल को उनकी भाभी का अचानक निधन हो गया। उनकी पत्नी पूनम जायसवाल ग्राम प्रधान पद की प्रत्याशी थी, शोकाकुल परिवार अंतिम संस्कार कराने में व्यस्त हो गया इस बीच विजयी प्रत्याशी अंजुम खातून और उनके समर्थकों ने फर्जी आधारकार्ड बनवाकर मतदान कराया जिसके आधार पर वह चुनाव जीत गई। फर्जी आधारकार्ड बनवाकर मतदान कराये जाने की सूचना उसी दिन रूधौली पुलिस को फोन से दिया गया। पुलिस ने दो लोगों को मौके से पकडा, उन्हें थाने ले गई और न जाने किन परिस्थितियों में पुलिस ने दो दिन बाद उन्हें छोड़ दिया। नीरज जायसवाल और ग्राम पंचायत हनुमानगंज के मतदाताओं ने मांग किया है कि यहां पुनः मतदान सुनिश्चित कराया जाय।

Leave A Reply

Your email address will not be published.