Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
समय से समस्याओं का निराकरण कर हम लोगो की कर सकते है वास्तविक सेवा: गोविंदराजू एन.एस. थाना समाधान दिवस पर डीएम,एसपी ने की जनसुनवाई नवागत मंडलायुक्त योगेश्वर राम मिश्र ने मण्डलायुक्त पद का ग्रहण किया कार्यभार सांसद ने किया खेल महाकुंभ तैयारियों का निरीक्षण हर मोड़ पर खरा उतर रहा है भारतीय संविधान-डा. वी.के. वर्मा बाबा साहब के बनाये संविधान को ध्वस्त करना चाहती है केन्द्र व प्रदेश सरकार: प्रेमशंकर द्विवेदी संविधान दिवस पर संगोष्ठी का आयोजन लंदन की डिग्री, गोल्ड मेडल से सम्मानित हुये डा. वी.के. वर्मा वंचित छात्रों को शुल्क प्रतिपूर्ति, छात्रवृत्ति दिलाने की मांग को लेकर पद यात्रा निकालेगी मेधा सफाई कर्मचारी संघ: डीपीआरओ को सौंपा 12 सूत्रीय ज्ञापन, समस्याओं के निस्तारण की मांग

कोरोना संक्रमित डा. अजय की जान खतरे में, सीएम से सहायता की गुहार

मेन स्ट्रीम आयुश डाक्टर्स वेलफेयर एसोसिएषन अध्यक्ष डा. वी.के. वर्मा ने सौंपा ज्ञापन

बस्ती। जनपद के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मरवटिया बाबू के अन्तर्गत प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र चिलवनिया में तैनात संविदा आयुष चिकित्सक मेन स्ट्रीमिंग डियूटी के दौरान कोरोना पीड़ित डा. अजय कुमार श्रीवास्तव की स्थिति गंभीर है। पिछले 10 दिनों से उनका इलाज अपोलो हास्पिटल लखनऊ में चल रहा है और वे वेंटीलेटर पर हैै। परिवार की आर्थिक स्थिति दयनीय है। सोमवार को मेन स्ट्रीम आयुष डाक्टर्स वेलफेयर एसोसिएशन जिलाध्यक्ष डा. वी.के. वर्मा ने जिलाधिकारी के प्रशासनिक अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री को ज्ञापन देकर डाक्टर के प्राण रक्षा की गुहार लगाते हुये आर्थिक सहायता दिये जाने की मांग किया।
सौंपे ज्ञापन में कहा गया है कि सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र मरवटिया बाबू के अन्तर्गत प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र चिलवनिया में तैनात संविदा आयुष चिकित्सक डा. अजय कुमार श्रीवास्तव डियूटी के दौरान कोरोना संक्रमित हो गये। उनका उपचार पहले जिला अस्पताल बस्ती में किया गया किन्तु स्थिति बिगड़ने पर उन्हें बस्ती के श्री कृष्णा मिशन हास्पिटल में भेजा गया। यहां भी सुधार न होने पर उन्हे अपोलो हास्पिटल लखनऊ में भर्ती कराया गया है जहां वे जिन्दगी मौत से जूझ रहे हैं। उनके परिवार की आर्थिक स्थिति दयनीय है और इलाज के लिये भी पैसा नहीं है। एसोसिएशन ने मांग किया है कि डा. अजय कुमार श्रीवास्तव के ईलाज हेतु तत्काल प्रभाव से आर्थिक सहायता उपलब्ध कराया जाय जिससे उनके जीवन की रक्षा हो सके।