Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
मातृ शिशु स्वास्थ्य सेवाओं के लिए वरदान है एमसीपी कार्ड नवजात शिशु में जन्‍मजात विकृतियों को दूर करता है फोलिक एसिड गुरू जी की अकड पडी ढीली कर दिए गये निलम्बित दहेज उत्पीड़न के दो मामलों में 10 ससुरालियों पर केस पेन्शनर एसोसिएशन की बैठक 5 को पुरानी पेशन नीति बहाली की मांग को लेकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपेगे शिक्षक युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य एवं जीवन कौशल पर विशेष कार्यशाला का शुभारम्भ इलाज के दौरान समझा टीबी मरीजों का दर्द,  अब बने मददगार  नोडल अधिकारी नीना शर्मा ने रुधौली ब्लाक में चौपाल लगाकर सुनीं समस्याऐ जिले की नोडल अधिकारी के निरीक्षण में सब कुछ मिला गुड ही गुड

जिला अस्पताल में होगा ऑपरेशन, खुलेंगी अस्पतालों की ओपीडी

 

– सीएचसी, पीएचसी में स्थापित होगी फीवर क्लीनिक

संवाददाता,बस्ती। कोविड के केस काफी कम हो जाने के साथ ही सरकारी अस्पतालों की बंद सेवाएं शुरू हो जाएंगी। सभी सरकारी अस्पतालों की ओपीडी शुक्रवार से संचालित कराए जाने का दिशा-निर्देश शासन ने दिया है। जिला स्तरीय अस्पतालों में मरीजों को भर्ती करने के साथ ही उनका ऑपरेशन भी किया जाएगा। कोविड मरीजों की पहचान के लिए सभी सीएचसी, पीएचसी में अलग से फीवर क्लीनिक खोली जाएगी, जहां कोविड के लक्षण वाले मरीजों की जांच की जाएगी। जांच में रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर उन्हें कोविड अस्पताल में भर्ती कराया जाएगा। सीएमओ डॉ. अनूप कुमार की ओर से इस संबंध में सभी प्रभारी चिकित्सा अधिकारियों (एमओआईसी) को निर्देश जारी कर दिए गए हैं।
अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद की ओर से बुधवार को जारी पत्र में कहा गया है कि प्रदेश में कोरोना वायरस का प्रसार कम हुआ है। ऐसे में कोविड के साथ अब नॉन कोविड सेवाओं पर भी ध्यान दिए जाने की जरूरत है। राजकीय अस्पतालों की गतिविधियां सीमित होने के कारण लोगों को चिकित्सकीय सुविधा हासिल करने में दुश्वारी हो रही है।
पत्र में कहा गया है कि कोविड प्रोटोकॉल के साथ सीएचसी, पीएचसी में ओपीडी व आईपीडी सेवाएं चार जून से शुरू कराई जाए। इन अस्पतालों में अलग से फीवर क्लीनिक स्थापित की जाए। कोविड लक्षण वाले मरीज अस्पताल में आने पर अन्य रोगियों से अलग इनकी जांच कराई जाए। जांच ट्रूनेट या एंटीजन से कराई जाए। स्वास्थ्य उपकेंद्रों की सेवाएं भी शुक्रवार से शुरू कराई जाएं। प्रसव केंद्र पर पूर्व की भांति प्रसव का कार्य होगा तथा एंटेनल परीक्षण भी होगा।

जिला अस्पताल में सर्जिकल ओपीडी शुरू कराई जाएगी। मरीजों का ऑपरेशन भी शुरू कराया जाएगा। मरीजों को यहां भर्ती भी किया जाएगा। ऑपरेशन से पहले मरीज की ट्रूनेट या आरटीपीसीआर जांच कराया जाना अनिवार्य है। जिला स्तरीय अस्पताल में पहले से ही नेत्र व ईएनटी की ओपीडी दो घंटे की चल रही है। अब इसे पूरे समय के लिए संचालित किया जाएगा। जिला अस्पताल के एसआईसी डॉ. आलोक वर्मा ने बताया कि शुक्रवार से कोविड प्रोटोकॉल के साथ नियमित रूप से ओपीडी का संचालन होगा। ऑपरेशन भी होगा।
बंद होंगे सीएचसी में संचालित कोविड अस्पताल
सीएचसी में संचालित कोविड अस्पतालों को तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया जाएगा। अगर वहां कोई मरीज है तो उसे कोविड के एल-2 अस्पताल में शिफ्ट करा दिया जाएगा। अस्पताल को सेनेटाइज कराते हुए ओपीडी व आईपीडी सेवा यहां शुरू कराई जाएगी। बस्ती जिले में सीएचसी मुंडेरवा को कोविड अस्पताल बनाया गया है।