Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
टीकाकरण में शिथिलता एवं लापरवाही पाये जाने पर 06 प्रभारी चिकित्साधिकारियों तथा 04 खण्ड विकास अधिकारि...  धान क्रय केन्द्र के संचालन में शिथिलता एवं लापरवाही पाये जाने पर गिरा तीन अधिकारियों पर कार्यवाही क... अगर बेटा परेशान करे तो मां-बाप डायल करें 14567 एल्डर हेल्पलाईन नम्बर कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु पर डीएम ने वितरित किया राज्य सरकार द्वारा घोषित रू0 50... समान वेतन, अधिकारों की मांग को लेकर संविदा कर्मियों ने मुख्यमंत्री को भेजा 7 सूत्रीय ज्ञापन व्यापारी से 10 लाख की रंगदारी मांगने वाले 3 अभियुक्त पहुंचे जेल छुट्टी बिताकर लौटने वालों की कोविड जांच के बाद ही होगी ज्वाइनिंग खेल के आयोजन में योगदान करने वालों को मिला पुरस्कार, प्रमाण-पत्र 45 बच्चों को ऑपरेशन से मिला नया जीवन महामहिम राज्यपाल श्रीमती आनन्दीबेन पटेल का जिले मे आगमन को लेकर तैयारियों की समीक्षा

कोविड के लक्षण वाले मरीजों का ओपीडी से अलग होगा इलाज

ऐसे मरीजों की अनिवार्य तौर पर कोविड की जांच भी की जाएगी

लेवल-टू वाले अस्पतालों में स्थानांतरित किये जाएंगे कोविड मरीज

ओपीडी सेवा शुरू करने के संबंध में शासन से मिला दिशा-निर्देश

संवाददाता,गोरखपुर । सरकारी अस्पतालों पर कोविड के लक्षण वाले मरीजों के लिए अलग से फीवर क्लिनिक या फ्लू कार्नर स्थापित किये जाएंगे । ऐसे मरीजों की कोविड जांच भी अनिवार्य तौर पर की जाएगी । यह भी सुनिश्चित किया जाएगा कि स्वास्थ्य केंद्र पर उपलब्ध सुविधा के अनुसार ट्रूनेट या एंटीजन विधि से कोविड जांच कर ली जाए । जिले में चार जून से शुरू किये जा रहे ओपीडी सेवा के संबंध में अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने पत्र भेज कर जो दिशा-निर्देश दिये हैं, उनके मुताबिक अगर किसी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में कोई कोविड मरीज भर्ती है तो उसे जिले के लेवल टू (एल-2) स्तर के अस्पताल में स्थानांतरित किया जाएगा । ऐसे केंद्र पर सेनेटाइजेशन की कार्यवाही के बाद नान कोविड सेवाएं दी जाएंगी ।
जिला स्वास्थ्य शिक्षा एवं सूचना अधिकारी के.एन. बरनवाल ने बताया कि ओपीडी और नान कोविड सेवाओं का लाभ कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन करते हुए मिल सकेगा । अगर कोई व्यक्ति बुखार, खांसी, सिरदर्द, गले में खराश, सांस फूलने, स्वाद एवं गंध जाने, कमजोरी और डायरिया जैसे लक्षणों से ग्रसित है तो उसका इलाज ओपीडी के अन्य मरीजों से अलग हट कर फीवर क्लिनिक व फ्लू कार्नर में ही होगा । ऐसे में लोगों से अपील है कि जो लोग इन लक्षणों से ग्रसित हैं वह किसी भी सरकारी स्वास्थ्य केंद्र के सामान्य ओपीडी मरीजों की कतार में न लगें । ओपीडी और आईपीडी की सेवाओं का लाभ लेने वाले लोगों को मास्क, दो गज की दूरी, हाथों की स्वच्छता संबंधित नियमों का कड़ाई से पालन करना होगा । उन्होंने बताया कि सभी स्वास्थ्य उपकेंद्रों को भी खोले जाने का दिशा-निर्देश प्राप्त हुआ है ।

चार जून से ऐसे चलेगी ओपीडी

• जिन सीएचसी को कोविड अस्पताल बनाया गया था वहां नान कोवीड की ओपीडी और आईपीडी की सेवाएं कोविड प्रोटोकॉल के तहत चालू  होंगी।
• सीएचसी पर सिजेरियन प्रसव की सुविधा सुचारू तौर पर शुरू होगी और सभी प्रकार के प्रसव पूर्व परीक्षण कार्य शुरू होंगे ।
• जिला चिकित्सालयों की सर्जिकल ओपीडी शुरू होगी और सभी प्रकार की सर्जरी कोविड जांच के बाद की जाएगी।
• आंख एवं ईएनटी की ओपीडी अब सिर्फ दो घंटे के बजाय पूरे कार्यदिवस पर संचालित की जाएगी ।
• सभी जिला अस्पतालों में पोस्ट कोविड केयर सेंटर संचालित होंगे जिसमें फिजिशियन, फिजियोथेरेपिस्ट और मानसिक रोग विशेषज्ञ शामिल होंगे ।
• सभी अस्पतालों की रंगाई-पुताई सात जून तक करवा ली जाएगी और सभी अस्पतालों पर चिकित्सकों और स्टॉफ की शत प्रतिशत उपस्थिति सुनिश्चित की जाएगी ।

Leave A Reply

Your email address will not be published.