Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
सपा की बैठक में निकाय चुनाव पर चर्चाः जावेद पिण्डारी, समीर चौधरी निकाय चुनाव प्रभारी बने अनिश्चितकालीन पूर्ण कार्य बहिष्कार करने के दृष्टिगत सभी विद्युत उपकेन्द्रों पर जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रे... अवैध अतिक्रमण करने वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर दर्ज कराएं एफआईआर: डीएम निकाय चुनाव के लिये ‘आप’ ने झोंकी ताकत, कार्यकर्ता सम्मेलन में बनी रणनीति जयन्ती पर याद किये गये प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद गोष्ठी के माध्यम से किसानों को दी गयी महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी दीदी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा विश्व विकलांग दिवस पर पर दिव्यांगों को किया गया सम्मानित पत्नी के अपहरण की आशंका, पति ने लगाया न्याय की गुहार सिर्फ रक्त और यौन सम्पर्क से फैलता है एड्स, मरीजों से न करें भेदभाव विश्व एड्स दिवस: डीएम ने फीता काटकर किया हस्ताक्षर अभियान का शुभारंभ

तीन लाख सालाना आय वाले परिवारों को भी मिलेगा योजना का लाभ

– शासन ने परिवार पूर्व निर्धारित आय सीमा दो से बढ़ाकर किया तीन लाख
कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती, उ0प्र0।
उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना में परिवार की आय सीमा में इजाफा कर दिया गया है। अब इस योजना का लाभ वह बच्चे भी उठा सकेंगे जिनके परिवार या संरक्षक की वार्षिक आय तीन लाख रूपये तक है। इससे पहले दो लाख रुपए सालाना आय वाले परिवारों के बच्चों को ही लाभ दिलाए जाने का प्रस्ताव था। वार्षिक आय का दायरा बढ़ा दिए जाने से प्रदेश के ज्यादा बच्चों को योजना का लाभ मिल सकेगा।
कोरोना काल मार्च 2020 से अनाथ हुए बच्चों के भविष्य को संवारने के लिए मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना शुरू की गई है। इसमें आर्थिक और शैक्षिक मदद बच्चों को पहुंचाना है।
उत्तर प्रदेश शासन ने छह जुलाई को पत्र जारी कर आय सीमा में संशोधन कर दिया गया है। निदेशक महिला कल्याण को जारी पत्र में कहा गया है कि अब इस योजना के दायरे में ऐसे परिवारों के अनाथ हुए बच्चों को भी शामिल किया जाए जिनके परिवार या संरक्षक की सालाना आय तीन लाख रुपए तक है।
क्या है बाल सेवा योजना
मार्च 2020 से अब तक कोविड में अपने माता-पिता या दोनों में से किसी एक को खोने वाले बच्चों के जीवन को संवारने के लिए प्रदेश स्तर पर यह योजना शुरू की गई है। योजना का मूल उद्देश्य हालात से परेशान बच्चों को तत्काल मदद पहुंचाने के साथ उनको गलत हाथों में जाने से बचाना है।
अनाथ हुए बच्चों के भरण-पोषण, शिक्षा, चिकित्सा आदि की व्यवस्था का पूरा ध्यान योजना में रखा गया है। शून्य से 18 साल तक के बच्चे योजना के पात्र होंगे। योजना की श्रेणी में आने वाले बच्चों के वैध संरक्षक के बैंक खाते में 4000 रुपए प्रतिमाह सरकार की ओर से भेजे जाएंगे।