Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
मातृ-शिशु स्वास्थ्य के लिए मिसाल बनीं डॉ शशि सिंह 1 से 31 अक्टूबर तक चलाया जाएगा विशेष संचारी रोग नियन्‍त्रण अभियान परिवहन निगम का बस स्टेशन शहर के बाहर बनवाने का प्रस्ताव शासन को भिजवाने का निर्देश डीएम ने किया ग्राम प्रधान, पंचायत सचिव तथा पंचायत सहायकों से गांव के लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने... जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों द्वारा 630 आंगनबाड़ी केंद्र गोद लिए जाने से होगा व्यवस्थाओं मे सुधार: स... अपने को एकाग्र करते हुए लक्ष्य पर ध्यान व लक्ष्य को हासिल कर परिणाम दें: डीआईजी प्राथमिक शिक्षक संघ रूधौली का त्रैवार्षिक अधिवेशन सम्पन्न राष्ट्र की उन्नति में पत्रकारों का योगदान अहम-डीएम पति की क्रूरता को नही सहन कर पायी विवाहिता फिर मौत को लगाया गले, आरोपी पति गिरफ्तार मुंबई के व्यापारी ने भाजपा सांसद व फिल्म अभिनेता रवि किशन शुक्ला के हड़प लिए 3.25 करोड़ रुपये, मुकदम...

पुण्य तिथि पर याद किये गये गांधीवांदी विचारक वंशीधर दूबे

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। उ0प्र0।

प्रसिद्ध गांधीवांदी विचारक कला प्रसार समिति के पूर्व उप सभापति वंशीधर दूबे को उनके दसवीं पुण्य तिथि पर याद किया गया। शनिवार को समिति के सचिव हरिस्वरूप दूबे के संयोजन में समिति पदाधिकारियों, सामाजिक कार्यकर्ताओं ने गांधी कला भवन स्थित उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण कर बापू प्रतिमा को नमन् किया।
समिति के सचिव हरिस्वरूप दूबे ने कहा कि वंशीधर दूबे ने गांधी कला भवन को मुक्त कराकर उसे बापू के विचारों के प्रमुख केेन्द्र बनाया किन्तु दुर्भाग्यवश प्रशासनिक उपेक्षा के कारण उसे विकास प्राधिकरण कार्यालय बना दिया गया। इसके चलते एक महत्वपूर्ण विचार का केन्द्र फिलहाल समाप्त हो गया है। गांधी कला भवन की प्रतिष्ठा और उसके भवन को वापस दिलाने के लिये समिति लगातार संघर्षरत है। निश्चित रूप से उसमें सफलता मिलेगी। कहा कि गांधी कला भवन की बौद्धिक विरासत को वापस पाने के लिये संघर्ष निरन्तर जारी है।
अपूर्व शुक्ल, सूर्यकान्त त्रिपाठी, देवेन्द्र पाण्डेय, विवेक पाल आदि ने बंशीधर दूबे के योगदान को स्मरण करते हुये कहा कि वे आखिरी क्षणों तक महात्मा गांधी के विचारों को जन-जन से जोड़ने के लिये प्रयत्नशील रहे । उनका सपना था कि गांधी कला भवन को विकसित किया जाय किन्तु दुर्भाग्य से उनका सपना अधूरा है। इसके लिये सबको मिलकर प्रयास करना होगा। जिलाधिकारी से आग्रह किया जायेगा कि पट्टे का नवीनीकरण कराकर एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक संस्था के स्वरूप को बनाये रखा जाय।
वंशीधर दूबे को नमन् करने वालों में अरविन्द तिवारी, सोनू यादव, रमन सिंह, शिशु श्रीवास्तव, राम सागर, अश्विनी सिंह, अभिषेक गुप्ता, यजत, श्रीमती पूनम, उदय स्वरूप, पदमेश, कुमारी शान्हवी आदि शामिल रहे।