Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
मातृ-शिशु स्वास्थ्य के लिए मिसाल बनीं डॉ शशि सिंह 1 से 31 अक्टूबर तक चलाया जाएगा विशेष संचारी रोग नियन्‍त्रण अभियान परिवहन निगम का बस स्टेशन शहर के बाहर बनवाने का प्रस्ताव शासन को भिजवाने का निर्देश डीएम ने किया ग्राम प्रधान, पंचायत सचिव तथा पंचायत सहायकों से गांव के लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने... जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों द्वारा 630 आंगनबाड़ी केंद्र गोद लिए जाने से होगा व्यवस्थाओं मे सुधार: स... अपने को एकाग्र करते हुए लक्ष्य पर ध्यान व लक्ष्य को हासिल कर परिणाम दें: डीआईजी प्राथमिक शिक्षक संघ रूधौली का त्रैवार्षिक अधिवेशन सम्पन्न राष्ट्र की उन्नति में पत्रकारों का योगदान अहम-डीएम पति की क्रूरता को नही सहन कर पायी विवाहिता फिर मौत को लगाया गले, आरोपी पति गिरफ्तार मुंबई के व्यापारी ने भाजपा सांसद व फिल्म अभिनेता रवि किशन शुक्ला के हड़प लिए 3.25 करोड़ रुपये, मुकदम...

मोटे अनाज में पोषक तत्वों की प्रचुरता को देखते हुए मोटे अनाज के उत्पादन को बढ़ाने पर दिया जा रहा है बल

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

आचार्य नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज अयोध्या द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केंद्र बस्ती पर भारत का अमृत महोत्सव के अंतर्गत अंतरराष्ट्रीय पोषक अनाज वर्ष 2023 के परिपेक्ष्य में पोषण वाटिका महा अभियान एवं वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन शुक्रवार  को इफ्को बस्ती के सहयोग से कृषि विज्ञान केंद्र बंजरिया फ़ार्म में आयोजित किया गया। जिसका उद्घाटन दयाराम चौधरी विधायक सदर बस्ती द्वारा किया गया।

 उन्होंने कृषकों एवं कृषक महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि भारत सरकार एवं प्रदेश सरकार किसानों के हित में अनेक लाभकारी योजनाएं चला रही है. इसी क्रम में मोटे अनाज में पोषक तत्वों की प्रचुरता को देखते हुए मोटे अनाज के उत्पादन को बढ़ाने पर बल दिया जा रहा है तथा महिलाओं एवं बच्चों में कुपोषण की समस्या के समाधान हेतु घर-घर पोषण वाटिका स्थापित करने हेतु प्रेरित किया जाएगा. उन्होंने कृषकों एवं कृषक महिला को इफ्को के सब्जी के मिनीकिट एवं फलदार पौधे वितरित किया।

केंद्र अध्यक्ष प्रोफेसर डॉ. एस.एन सिंह ने बताया कि जनपद में मोटे अनाजों के उत्पादन को बढ़ाने के उद्देश्य केंद्र पर साँवा, कोदो, मड़ुआ का बीज उत्पादन किया जा रहा है जिसे आने वाले समय में उपलब्ध भी कराया जाएगा तथा किसानों को प्रशिक्षित भी किया जाएगा. महिलाओं एवं किसानों को अपने घर के आस-पास उपलब्ध खाली जगह जगह में पोषण वाटिका स्थापित करना चाहिए. केंद्र पर तैयार हो रहे मूंगफली के फसल पर बोलते हुए बताया की केंद्र पर बोई गई मूंगफली से साल में दो फसल ले सकते हैं. उन्होंने बताया की मूंगफली की किस्म की  वर्ष में दो बार फरवरी-मार्च की एवं जून-जुलाई में बुवाई होती है,जिससे केंद्र से विक्रय किया जाएगा. इस समय केंद्र पर आम की सन्सेसन, पूसा अरुणिमा, पूसा सूर्या, पूसा अरुनिका, एवं परवल आदि के पौध विक्री किये जा रहें हैं. जो किसान भाई केंद्र से खरीद सकते हैं।

इस कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि सत्येंद्र सिंह भोलू प्रदेश कार्यसमिति सदस्य किसान मोर्चा उत्तर प्रदेश में अपने संबोधन में कहा कि भारत सरकार किसानों की हितैषी है इसलिए सरकार ने फसलों का समर्थन मूल्य बढ़ा दिया है जिससे किसानों को उनकी फसलों का उचित दाम मिल सके और वे आत्मनिर्भर होकर अधिक से अधिक लाभ प्राप्त कर सकें. उप कृषि निदेशक अनिल कुमार ने कृषि विभाग द्वारा संचालित योजनाओं पर चर्चा करते हुए कहा कि सरकार द्वारा कृषि यंत्र, वर्मी कंपोस्ट यूनिट, सहित विभाग की अनुदान योजनाओं का लाभ लेने के लिए किसान  अपना पंजीकरण करा कर लाभ उठा सकते हैं।

उपायुक्त एवं निबंधन सहकारिता अशोक कुमार नें  विभाग द्वारा संचालित योजनाओं पर चर्चा करते हुए कहा कि किसानों की आय दोगुनी तथा तभी हो सकती है जब वे फसल उत्पादन पशुपालन मशरूम उत्पादन मधुमक्खी पालन फल सब्जी उत्पादन करें। इस कार्यक्रम में उपक्षेत्र प्रबंधक जियाद्दीन सिद्दीकी,सतीश कुमार प्रबंधक इफ्को, कृषि विज्ञान केंद्र बस्ती के वैज्ञानिक वीना सचान, डॉ. डीके श्रीवास्तव, डॉ. प्रेम शंकर, आरवी सिंह सहित मौजूद विशेषज्ञों नें पोषण वाटिका से जुडी जानकारियाँ दी. इस मौके पर प्रगतिशील कृषक आज्ञाराम वर्मा, विजेंद्र बहादुर पाल, परमानन्द सिंह, राम मूर्ति मिश्रा, और सिद्धार्थ फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी के निदेशक बृहस्पति कुमार पाण्डेय सहित सैकड़ों महिला किसान मौजूद रहीं. कार्यक्रम के दौरान किसान कल्याण मंत्रालय एवं भारतीय कृषि अनुसंधान के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित लाइव कार्यक्रम मौजूद लोगों को दिखाया गया।