Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
मातृ-शिशु स्वास्थ्य के लिए मिसाल बनीं डॉ शशि सिंह 1 से 31 अक्टूबर तक चलाया जाएगा विशेष संचारी रोग नियन्‍त्रण अभियान परिवहन निगम का बस स्टेशन शहर के बाहर बनवाने का प्रस्ताव शासन को भिजवाने का निर्देश डीएम ने किया ग्राम प्रधान, पंचायत सचिव तथा पंचायत सहायकों से गांव के लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने... जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों द्वारा 630 आंगनबाड़ी केंद्र गोद लिए जाने से होगा व्यवस्थाओं मे सुधार: स... अपने को एकाग्र करते हुए लक्ष्य पर ध्यान व लक्ष्य को हासिल कर परिणाम दें: डीआईजी प्राथमिक शिक्षक संघ रूधौली का त्रैवार्षिक अधिवेशन सम्पन्न राष्ट्र की उन्नति में पत्रकारों का योगदान अहम-डीएम पति की क्रूरता को नही सहन कर पायी विवाहिता फिर मौत को लगाया गले, आरोपी पति गिरफ्तार मुंबई के व्यापारी ने भाजपा सांसद व फिल्म अभिनेता रवि किशन शुक्ला के हड़प लिए 3.25 करोड़ रुपये, मुकदम...

ग्राम प्रधानों के सहयोग से क्षय रोग को समाप्त करने की मुहिम

– ग्राम प्रधानों को क्षय रोग के प्रति किया जा रहा है संवेदीकृत

– अपने गांव के लोगों को क्षय रोग से मुक्त कराएं ग्राम प्रधान

कबीर बस्ती न्यूज,संतकबीरनगर।।उ0प्र0।

जिला क्षय रोग विभाग ग्राम प्रधानों के जरिए क्षय रोग को जड़ से समाप्त करने की रणनीति पर काम कर रहा है। इसके तहत जनपद के हर ग्राम प्रधान को क्षय रोग के प्रति लोगों को संवेदीकृत करके यह जिम्मेदारी दी जा रही है कि वह अपने गांव के ऐसे लोगों की पहचान करें जो टीबी के संभावित रोगी हैं। उनको जांच के लिए प्रेरित करें तथा जांचोपरान्त अगर क्षय रोग की पुष्टि होती है तो उनका इलाज कराएं। इसमें गांव की आशा कार्यकर्ता उन्हें हर संभव सहयोग प्रदान करेगी।

जिला क्षय रोग नियंत्रण केंद्र की तरफ से जनपद के विभिन्न ब्लाकों में हो रहे प्रधानों के प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान उन्हें मास्टर ट्रेनर्स के द्वारा संवेदीकृत किया जा रहा है। क्षय रोग के जिला कार्यक्रम समन्वयक अमित आनन्द ने बताया कि खलीलाबादपौलीनाथनगर व हैसर ब्लाक के ग्राम प्रधानों को संवेदीकृत करने की जिम्मेदारी वह खुद उठा रहे हैं। पीपीएम समन्वयक कविता पाठक के निर्देशन में बघौली व सेमरियांवा ब्लाक के ग्राम प्रधानों को संवेदीकृत किया जा रहा है। सांथामेंहदावल व बेलहरकला ब्लॉक में विभाग के मास्टर ट्रेनर ईश्वर चन्द चौधरी की टीम के द्वारा प्रधानों के संवेदीकरण का कार्य किया जा रहा है। इसके तहत नवनिर्वाचित प्रधानों को टीबी रोग से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारियां दी गईं। सभी प्रधानों से आह्वान किया गया कि वह रोग के खात्मे के लिए विभाग का सहयोग करें। इस मौके पर सभी प्रधानों को आईईसी मैटेरियल वितरित किया गया। एक्टिव केस फाइंडिंग के तहत नए मरीजों को खोजने के अलावा सभी को जागरूक भी किया जा रहा है। इसी क्रम में विकासखंड खलीलाबाद कार्यालय पर क्षय रोग विभाग द्वारा एक कार्यक्रम के दौरान सभी नवनिर्वाचित प्रधानों को टीबी रोग के संबंध में कई महत्वपूर्ण जानकारियां दी गईं। सभी प्रधानों से कहा गया कि वह जिले को इस रोग से मुक्त करने के लिए अपनी अहम भूमिका निभा सकते हैं। चिकित्सा कर्मचारियों ने विभाग का सहयोग करने का भी आह्वान किया। चिकित्सा कर्मचारियों के अलावा कार्यक्रम में विकास खंड अधिकारी तथा एडीओ ने भी अपने संबोधन में ग्राम प्रधानों को महत्वपूर्ण जानकारियां दीं।

32 नए रोगी खोजे गए

जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. एस. डी. ओझा ने बताया कि जिले में इस समय 1256 क्षय रोगियों की दवा चल रही है। गत दिनों चले दूसरे सक्रिय क्षय रोगी खोजी अभियान के दौरान 32 नए मरीज खोजे गए। इसमें खलीलाबाद ब्लाक खेत्र में 10सेमरियांवा में छ : सांथा में आठशनिचरा में तीनबेलहरकला में दो हैसरनाथनगर व मेंहदावल में एक – एक रोगी खोजे गए हैं। इनके उपचार की प्रक्रिया शुरु कर दी गई है। इसके साथ ही साथ उनको पोषण भत्ते की धनराशि हर माह 500 रुपए खाते में दी जा रही है। वर्तमान में प्रधानों को संवेदीकृत किया जा रहा है।

 ये लक्षण दिखें तो जरुर करा लें जांच – डॉ. एसडी ओझा

 जिला क्षय रोग अधिकारी डॉ. ओझा ने बताया कि सभी लोग अभियान में सहयोग करें। टीम उनके यहां जा रही हैं तो उन्‍हें अवश्‍य बताएं कि किसी के अन्‍दर टी. बी. के लक्षण हैं या नहीं । इन लक्षणों में दो सप्‍ताह या उससे अधिक समय से खांसी आना , खांसी के साथ बलगम व बलगम के साथ खून आना , रात में बेवजह पसीना आना और भूख कम लगना, वजन का घटना , बुखार व सीने में दर्द और शाम के समय हल्‍का बुखार होने जैसे लक्षण शामिल हैं ।