Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
मातृ-शिशु स्वास्थ्य के लिए मिसाल बनीं डॉ शशि सिंह 1 से 31 अक्टूबर तक चलाया जाएगा विशेष संचारी रोग नियन्‍त्रण अभियान परिवहन निगम का बस स्टेशन शहर के बाहर बनवाने का प्रस्ताव शासन को भिजवाने का निर्देश डीएम ने किया ग्राम प्रधान, पंचायत सचिव तथा पंचायत सहायकों से गांव के लोगों के जीवन में परिवर्तन लाने... जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारियों द्वारा 630 आंगनबाड़ी केंद्र गोद लिए जाने से होगा व्यवस्थाओं मे सुधार: स... अपने को एकाग्र करते हुए लक्ष्य पर ध्यान व लक्ष्य को हासिल कर परिणाम दें: डीआईजी प्राथमिक शिक्षक संघ रूधौली का त्रैवार्षिक अधिवेशन सम्पन्न राष्ट्र की उन्नति में पत्रकारों का योगदान अहम-डीएम पति की क्रूरता को नही सहन कर पायी विवाहिता फिर मौत को लगाया गले, आरोपी पति गिरफ्तार मुंबई के व्यापारी ने भाजपा सांसद व फिल्म अभिनेता रवि किशन शुक्ला के हड़प लिए 3.25 करोड़ रुपये, मुकदम...

रामचन्द्र राजा कृत गज़ल संग्रह ‘सपनों का सम्मान’ का लोकार्पण

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

रविवार को प्रेस क्लब के सभागार में शिव हर्ष किसान पी.जी. कालेज के प्राचार्य एवं समीक्षक डा. रघुवंशमणि त्रिपाठी ने रामचन्द्र राजा कृत गज़ल संग्रह ‘सपनों का सम्मान’ का लोकार्पण किया। कहा कि कभी राज दरबार की चेरी रही गज़ल आज समय के सत्य से मुठभेड़  कर रही है। रामचन्द्र राजा की गजलें आश्वस्त करती है कि सब कुछ अभी समाप्त नहीं हुआ है। वे समाज के सत्य को चंद शव्दों में जिस तरह से उद्घाटित करते हैं उससे निश्चित रूप से ‘सपनों का सम्मान’ साहत्यिक जगत में प्रतिष्ठित होगी।
विशिष्ट अतिथि डा. रामदल पाण्डेय ने कहा कि समाज पर गजलों का आज भी सर्वाधिक प्रभाव है। कम शव्दों में गजल लोगों की जुबान पर चढ जाती है। ‘सपनों का सम्मान’ नई कृति पाठकों का विश्वास जीते।
प्रेमचन्द्र साहित्य एवं जन कल्याण संस्थान की ओर से आयोजित लोकार्पण समारोह की    अध्यक्षता करते हुये सत्येन्द्रनाथ मतवाला ने कहा कि ‘सपनों का सम्मान’ गजल संग्रह में रामचन्द्र राजा की यह पंक्तियां ‘ अपने ख्वाबों का यूं ही तो सम्मान हो, भूल कर भी किसी का न अपमान हो’ एक संदेश देती है।
कार्यक्रम में डा. रामकृष्ण लाल ‘जगमग’ जगदम्बा प्रसाद भावुक, सुशील कुमार सिंह पथिक, श्याम प्रकाश शर्मा, डा. राजेन्द्र सिंह ‘राही’ अनुरोध कुमार श्रीवास्तव, बलराम चौबे, फूलचन्द चौधरी, अख्तर वस्तवी, कलीम वस्तवी, पंकज सोनी, रहमान अली रहमान आदि की रचनायें सराही गई। मुख्य रूप से  ओम प्रकाश द्विवेदी, नीरज वर्मा, वीरेन्द्र मौर्य, पेशकार मिश्र, ओंकार मिश्र, विनय कुमार श्रीवास्तव, साइमन फारूकी, शिवाकान्त पाण्डेय के साथ ही अनेक साहित्यकार, कवि, समाजसेवी उपस्थित रहे। संचालन अफजल हुसेन अफजल ने किया।