Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
कुपोषण के साथ बीमारियों से भी बचाती है कीड़े मारने की दवा माध्यमिक शिक्षक संघ का वार्षिक सम्मेलन एवं विचार गोष्ठी सम्पन्न 7 दिवसीय धार्मिक अनुष्ठान 13 सेः भूमि पूजन में उमड़े श्रद्धालु पूंजीपती मित्रों को फायदा पहुंचाने के लिये देश के आर्थिक ढांचे का सत्यानाश कर रहे हैं पीएम: प्रेमशंक... प्रभारी मंत्री राकेश सचान 08 फरवरी को बस्ती में मण्डल में स्थापित किए जायेंगे 31 एग्री जंक्शन निर्माण कार्य अपूर्ण पाये जाने से डीएम खफा: वेतन रोकने के निर्देश “बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं‘‘जन जागरूकता वाहन को डीएम ने दिखाई हरी झण्डी चित्रांश क्लब की ओर से ‘एक शाम शहीदों के नाम’’ कार्यक्रम आयोजित नहीं सुनी जा रही हैं पेन्शनर्स की समस्याः दिया आन्दोलन की चेतावनी

जिले में 18 अक्टूबर से 17 नवम्बर तक संचालित किया जायेंगा विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

जिले में 18 अक्टूबर से 17 नवम्बर तक विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान तथा 18 अक्टूबर से 01 नवम्बर तक दस्तक अभियान संचालित किया जायेंगा। उक्त जानकारी जिलाधिकारी श्रीमती सौम्या अग्रवाल ने दी है। उन्होने सभी प्रभारी चिकित्साधिकारी तथा संबंधित विभागीय अधिकारियों को 11 अक्टॅूबर तक कार्य योजना सीएमओ कार्यालय को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है।
शासन के इस निर्णय की जानकारी देते हुए जिलाधिकारी ने बताया कि संचारी रोगों एवं दिमागी बुखार पर प्रभावी नियंत्रण एवं कार्यवाही के लिए विभिन्न विभागों को दायित्व सौपा गया है। उन्होने कहा कि विभिन्न रोगों की रोकथाम के लिए विभागों के बीच आपसी समन्वय स्थापित करते हुए एक साथ कार्यवाही करना आवश्यक है। इसके लिए उन्होेने जिला तथा ब्लाक स्तर पर समन्वय समिति गठित करने का निर्देश दिया है।
उन्होने बताया कि फ्रंट लाइन वर्कर्स आशा एवं आगनबाड़ी कार्यकत्री घर-घर भ्रमण के दौरान बुखार, इन्फ्लुएंजा लाइक इलनेस (आईएलआई), टीवी रोगी तथा कुपोषित बच्चों की चार अलग-अलग सूचिया भी तैयार करेंगी। इन सूचियों में रोगी का नाम, पता एवं मोबाइल नम्बर तैयार कर सम्पूर्ण विवरण क्षेत्रीय एएनएम के माध्यम से ब्लाक मुख्यालय पर उपलब्ध कराया जायेंगा। उन्होने कहा कि अभियान के संचालन के दौरान साफ-सफाई, कचरा निस्तारण, जल भराव रोकने, शुद्ध पेयजल की उपलब्धता पर विशेष जोर दिया जायेंगा।
उन्होने निर्देश दिया है कि अभियान प्रारम्भ होने के बाद इस बात का ध्यान रखा जाय कि माइक्रोप्लानिंग प्रारूप में तिथि एवं क्षेत्रवार अंकित गतिविधियों के अनुसार कार्य किया जाय तथा इसकी उच्च स्तर से मानीटरिंग भी की जाय। इसके लिए उन्होने विभागीय अधिकारियों यूनिसेफ एंव डब्लूएचओ के अधिकारियो को निर्देशित किया है।