Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
सपा की बैठक में निकाय चुनाव पर चर्चाः जावेद पिण्डारी, समीर चौधरी निकाय चुनाव प्रभारी बने अनिश्चितकालीन पूर्ण कार्य बहिष्कार करने के दृष्टिगत सभी विद्युत उपकेन्द्रों पर जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रे... अवैध अतिक्रमण करने वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर दर्ज कराएं एफआईआर: डीएम निकाय चुनाव के लिये ‘आप’ ने झोंकी ताकत, कार्यकर्ता सम्मेलन में बनी रणनीति जयन्ती पर याद किये गये प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद गोष्ठी के माध्यम से किसानों को दी गयी महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी दीदी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा विश्व विकलांग दिवस पर पर दिव्यांगों को किया गया सम्मानित पत्नी के अपहरण की आशंका, पति ने लगाया न्याय की गुहार सिर्फ रक्त और यौन सम्पर्क से फैलता है एड्स, मरीजों से न करें भेदभाव विश्व एड्स दिवस: डीएम ने फीता काटकर किया हस्ताक्षर अभियान का शुभारंभ

सदैव याद किये जायेंगे सरदार वल्लभभाई पटेल- दयाराम चौधरी

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

सदर विधायक दयाराम चौधरी ने भारत रत्न लौह पुरूष सरदार वल्लभभाई पटेल को उनकी जयन्ती पर नमन् करते हुये कहा कि उनके अमूल्य योगदान से ही भारत की सीमायेें सुरक्षित हैं और उन्हें विस्तार मिला। सरदार पटेल स्मारक संस्थान में स्थित सरदार पटेल की प्रतिमा पर माल्यार्पण के बाद उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुये विधायक दयाराम चौधरी ने कहा कि  उनका जन्म 31 अक्टूबर 1875 को हुआ वे  स्वतंत्रता संग्राम सेनानी तथा आजाद भारत के पहले गृहमंत्री व उप प्रधानमंत्री थे।
कहा कि स्वतंत्रता की लड़ाई में उनका महत्वपूर्ण योगदान था, जिसके कारण उन्हें भारत का लौह पुरुष भी कहा जाता है। 31 अक्टूबर 1875 गुजरात के नाडियाद में सरदार पटेल का जन्म एक किसान परिवार में हुआ था। उन के पिता का नाम झवेरभाई और माता का नाम लाडबा देवी था। सरदार पटेल अपने तीन भाई बहनों में सबसे छोटे और चौथे नंबर पर थे। सरदार वल्लभ भाई पटेल की शिक्षा का प्रमुख साधन स्वाध्याय था। उन्होंने लंदन से बैरिस्टर की पढ़ाई की और उसके बाद भारत आकर अहमदाबाद में वकालत शुरू की। सरदार पटेल स्वतंत्रता आंदोलन में पहला प्रमुख योगदान खेड़ा संघर्ष के रूप में सामने आया। जब खेड़ा क्षेत्र सूखे की चपेट में था और वहां के किसानों ने अंग्रेज सरकार से कर में छूट देने की मांग की। जब अंग्रेज सरकार ने इस मांग को स्वीकार नहीं किया, तो सरदार पटेल, महात्मा गांधी और अन्य लोगों ने किसानों का नेतृत्व किया और उन्हें कर न देने के लिए प्रेरित किया। अंत में अंग्रेजी हुकूमत को झुकना पड़ा और किसानों को कर में राहत देनी पड़ी। उनका योगदान सदैव याद किया जायेगा।
कार्यक्रम में राजकुमार शुक्ल, महेन्द्र पटेल, श्याम भवन चौधरी, लालचंद चौधरी, जगदम्बा चौधरी, राम सुरेश चौधरी, गणेश चौधरी, राजेन्द्र चौधरी, पी.सी. चौधरी, संजय चौधरी आदि शामिल रहे।