Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
सपा की बैठक में निकाय चुनाव पर चर्चाः जावेद पिण्डारी, समीर चौधरी निकाय चुनाव प्रभारी बने अनिश्चितकालीन पूर्ण कार्य बहिष्कार करने के दृष्टिगत सभी विद्युत उपकेन्द्रों पर जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रे... अवैध अतिक्रमण करने वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर दर्ज कराएं एफआईआर: डीएम निकाय चुनाव के लिये ‘आप’ ने झोंकी ताकत, कार्यकर्ता सम्मेलन में बनी रणनीति जयन्ती पर याद किये गये प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद गोष्ठी के माध्यम से किसानों को दी गयी महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी दीदी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा विश्व विकलांग दिवस पर पर दिव्यांगों को किया गया सम्मानित पत्नी के अपहरण की आशंका, पति ने लगाया न्याय की गुहार सिर्फ रक्त और यौन सम्पर्क से फैलता है एड्स, मरीजों से न करें भेदभाव विश्व एड्स दिवस: डीएम ने फीता काटकर किया हस्ताक्षर अभियान का शुभारंभ

प्राकृतिक चिकित्सा में एक्यूप्रेशर सीखना जरूरी – डॉ नवीन सिंह 

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हॉलिस्टिक हेल्थ के चेयरमैन डॉ विनोद कश्यप द्वारा आयोजित एक दिवसीय निशुल्क वेबीनार में अखिल भारतीय प्राकृतिक चिकित्सा परिषद के क्षेत्रीय सचिव प्रोफेसर डॉ नवीन सिंह ने बताया कि प्राकृतिक चिकित्सा के क्षेत्र में एक्यूप्रेशर का बहुत ही महत्व है अगर एक्यूप्रेशर को हम सीख कर अपना उपचार और लोगों का उपचार बहुत आसानी से और सरल और सस्ती चिकित्सा के माध्यम से कर सकते हैं इसको आसानी से सीखा जा सकता है केवल कुछ मर्म बिंदुओं पर दबाव देकर लोगों को रोग मुक्त किया जा सकता है।
   डॉ नवीन सिंह ने बताया कि इमरजेंसी बिंदुओं का महत्व हर जगह पड़ता है जैसे कोई बेहोश हो जाता है या किसी को मिर्गी आ जाती है या चक्कर आ जाता है तो आप तुरंत नाक के नीचे गड्ढा कान की लटकन एवं पैर के तलवों में दबाव देकर  ठीक कर सकते हैं। कान में मच्छर पानी या हवा प्रवेश नाक बंद हो जाना छीके अत्यधिक आना, बस में यात्रा करते समय उल्टी और चक्कर आना, एकाएक आवाज बंद हो जाना अथवा सदमा लगना, कीड़े का काटना या डंक मारना, यात्रा से घबराहट, घुटन भूलने की आदत एकाग्रता की कमी ,समय पर याद ना आना, भूल न पाना, जैसी बीमारियों  बिंदुओं का उपयोग करके बिना किसी दवा बिना किसी इंजेक्शन बिना किसी खर्च के तथा बिना किसी साइड इफेक्ट के इस बिंदु पर उपचार देकर अन्य परिस्थितियों से भी निजात पाई जा सकती है। इन बिंदुओं को एनसीसी बच्चों को बच्चियों को सीखना बहुत ही आवश्यक है। इस वेबीनार में सैकड़ों व्यक्तियों को निशुल्क प्रशिक्षण दिया गया।
   इस वेबीनार में विश्व संवाद परिषद के अध्यक्ष डॉ रमेश चंद्र बनारस से डॉ अजीत कुमार सिंह, डॉ भारत भूषण, बुलंदशहर से रविंद्र कुमार राणा, मीना जी बबीता, कपिल देव ,राज पाल , डॉ अलका, भारतवर्ष के कोने-कोने से लोग जुड़े रहे।