Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
समय से समस्याओं का निराकरण कर हम लोगो की कर सकते है वास्तविक सेवा: गोविंदराजू एन.एस. थाना समाधान दिवस पर डीएम,एसपी ने की जनसुनवाई नवागत मंडलायुक्त योगेश्वर राम मिश्र ने मण्डलायुक्त पद का ग्रहण किया कार्यभार सांसद ने किया खेल महाकुंभ तैयारियों का निरीक्षण हर मोड़ पर खरा उतर रहा है भारतीय संविधान-डा. वी.के. वर्मा बाबा साहब के बनाये संविधान को ध्वस्त करना चाहती है केन्द्र व प्रदेश सरकार: प्रेमशंकर द्विवेदी संविधान दिवस पर संगोष्ठी का आयोजन लंदन की डिग्री, गोल्ड मेडल से सम्मानित हुये डा. वी.के. वर्मा वंचित छात्रों को शुल्क प्रतिपूर्ति, छात्रवृत्ति दिलाने की मांग को लेकर पद यात्रा निकालेगी मेधा सफाई कर्मचारी संघ: डीपीआरओ को सौंपा 12 सूत्रीय ज्ञापन, समस्याओं के निस्तारण की मांग

एसडीएम,एमओआईसी करेंगे अल्ट्रासाउंड सेन्टरों की आकस्मिक जांच, डीएम ने दिए कडे निर्देश

नियुक्त डॉक्टर ही करेंगे अल्ट्रासाउंड, लगी रहेगी अल्ट्रासाउंड करने वाले डॉक्टर की फोटो
कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

जिले के सभी 104 अल्ट्रासाउंड सेंटर की सतत् निगरानी तथा निरीक्षण करने के लिए जिलाधिकारी श्रीमती सौम्या अग्रवाल ने अधिकारियों को निर्देशित किया है। कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित पी0सी0पी0एन0डी0टी0 एक्ट के क्रियान्वयन हेतु गठित सलाहकार समिति की बैठक को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सभी उप जिलाधिकारी एमओआईसी के साथ अपने क्षेत्र के अल्ट्रासाउंड सेंटर की आकस्मिक जांच करेंगे। स्वास्थ विभाग के अधिकारी इन सेंटरों की जांच करेंगे तथा निर्धारित चेक लिस्ट के अनुसार अपनी रिपोर्ट देंगे। उन्होंने निर्देश दिया कि अधिकारी यह सुनिश्चित करेंगे कि अल्ट्रासाउंड के लिए नियुक्त डॉक्टर ही अल्ट्रासाउंड करें।
उन्होंने कहा कि एक्ट के निर्देशानुसार अल्ट्रासाउंड करने वाले डॉक्टर की फोटो अल्ट्रासाउंड कक्ष में लगी रहेगी ताकि अल्ट्रासाउंड कराने गया व्यक्ति उस फोटो से अल्ट्रासाउंड करने वाले का मिलान कर सके। इसके अलावा कोई भी डॉक्टर दो से अधिक सेंटर पर अल्ट्रासाउंड नहीं करेगा। दोनों अल्ट्रासाउंड केंद्र का वह अलग-अलग समय निर्धारित करेगा। उन्होंने कहा कि अल्ट्रासाउंड सेंटर पर इस आशय का बोर्ड लगा होना चाहिए कि यहां लिंग की जांच नहीं की जाती है तथा अल्ट्रासाउंड करने वाले डॉक्टर का नाम, पता एवं मोबाइल नंबर फोटो सहित प्रदर्शित किया जाना चाहिए।
पीसीपीएनडीटी एक्ट के प्रभावी क्रियान्वयन पर चर्चा करते हुए उन्होंने निर्देश दिया कि प्यारी बिटिया वेबसाइट पर प्रत्येक अल्ट्रासाउंड केस का विवरण दर्ज किया जाएगा। इस एक्ट के नोडल अधिकारी एसीएमओ डॉ0 सी एल कनौजिया इस वेबसाइट की नियमित समीक्षा करेंगे। साथ ही फार्म ऐप की भी समीक्षा करेंगे। अल्ट्रासाउंड कराने के लिए भरे गए फार्म का विवरण वे समिति के महिला सदस्यों को उपलब्ध कराएंगे ताकि वे गर्भवती महिलाओं से वार्ता करके हकीकत का पता लगा सके।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि वेबसाइट पर अपलोड किए गए विवरण एवं गर्भपात के आंकड़ों का नियमित मिलान करके रिपोर्ट तैयार की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्यारी बिटिया वेबसाइट पर अल्ट्रासाउंड सेंटर का पंजीकरण, नवीनीकरण एवं सर्टिफिकेट जनरेट करने की कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में कोई भी कार्य ऑफलाइन नहीं किया जाएगा।
बैठक में जिलाधिकारी ने 5 नए अल्ट्रासाउंड सेंटर की स्वीकृति प्रदान किया। इसको मिलाकर जिले मे कुल 104 अल्ट्रासाउण्ड हो गये है।  इस बैठक में उन्होंने छह अल्ट्रासाउंड सेंटर का नवीनीकरण भी स्वीकृत किया। उन्होंने समिति के सदस्यों से एक्ट के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए सुझाव भी प्राप्त किए। बैठक का संचालन करते हुए एसीएमओ डॉ0 सी एल कनौजिया ने बताया कि प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना के अंतर्गत सभी 14 ब्लॉक पर स्थित सीएचसी के लिए अल्ट्रासाउंड सेंटर का निर्धारण कर दिया गया है। संबंधित डॉक्टर आवश्यक होने पर गर्भवती माताओं का अल्ट्रासाउंड इन सेंटर पर करा सकेंगे।
बैठक में सीएमओ डॉ0 अनूप कुमार, डॉ0 फखरेयार हुसैन, डीजीसी क्रिमिनल पी एन पांडे, बाल रोग विशेषज्ञ डॉ0 पीके श्रीवास्तव, डॉ0 ममता रानी, डॉ0 निधि गुप्ता, आशा संगिनी लता, जिला समन्वयक शिवम उपस्थित रहे।