Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
मातृ शिशु स्वास्थ्य सेवाओं के लिए वरदान है एमसीपी कार्ड नवजात शिशु में जन्‍मजात विकृतियों को दूर करता है फोलिक एसिड गुरू जी की अकड पडी ढीली कर दिए गये निलम्बित दहेज उत्पीड़न के दो मामलों में 10 ससुरालियों पर केस पेन्शनर एसोसिएशन की बैठक 5 को पुरानी पेशन नीति बहाली की मांग को लेकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपेगे शिक्षक युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य एवं जीवन कौशल पर विशेष कार्यशाला का शुभारम्भ इलाज के दौरान समझा टीबी मरीजों का दर्द,  अब बने मददगार  नोडल अधिकारी नीना शर्मा ने रुधौली ब्लाक में चौपाल लगाकर सुनीं समस्याऐ जिले की नोडल अधिकारी के निरीक्षण में सब कुछ मिला गुड ही गुड

जनपद में दो दिनों तक स्थितियों की समीक्षा के साथ माक ड्रिल देखेंगे पर्यवेक्षण अधिकारी

कोरोना की संभावित तीसरी लहर की परखेंगे तैयारियां

– 12 को होगी माकड्रिल, 13 को फील्ड भ्रमण करके लेंगे उपकरणों की जानकारी

कबीर बस्ती न्यूज,संतकबीरनगर।उ0प्र0।

कोविड की संभावित तीसरी लहर के लिए की गई तैयारियों को परखने के लिए जनपद में पर्यवेक्षण के लिए संयुक्त निदेशक स्तर के अधिकारी आगामी 12 व 13 नवम्बर को मौजूद रहेंगे। वह पहले दिन 12 नवम्बर को तैयारियों के सम्बन्ध में मॉक ड्रिल कराएंगे वहीं दूसरे दिन क्षेत्र में भ्रमण करके तैयारियों की जानकारी प्राप्त करेंगे।

उत्तर प्रदेश शासन के संयुक्त सचिव अजीज अहमद ने मुख्य चिकित्सा अधिकारी को भेजे गए अपने पत्र में दिशा-निर्देश दिया है कि कोविड की संभावित तीसरी लहर व बच्चों में कोविड के संक्रमण के प्रबन्धन की तैयारियों के लिए मॉकड्रिल 12 नवम्बर को होगा। वहीं 13 नवम्बर को फील्ड में भ्रमण करके की गई तैयारियों का भौतिक सत्यापन भी किया जाएगा। संतकबीरनगर जनपद के लिए संयुक्त निदेशक शहरी डॉ. अजय कुमार गुप्ता को पर्यवेक्षण अधिकारी बनाया गया है। मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. इन्द्र विजय विश्वकर्मा ने सभी अधीक्षकों के साथ ही साथ एसीएमओ वेक्टर बार्न डिजीज डॉ. वी. पी. पाण्डेय तथा एसीएमओ आरसीएच डॉ. मोहन झा को यह निर्देश दिया है कि कोविड के सम्बन्ध में आयोजित की जाने वाली इस मॉक ड्रिल को बेहतर तरीके से सम्पन्न कराएं तथा हर सीएचसी व पीएचसी पर जहां पर मॉक ड्रिल का आयोजन किया जाएगा वहां पर तैयारियां पूरी कर लें। टीम को हर समय सतर्क रहना होगा। वह पहले ही सारी तैयारियों तथा उपकरणों को देख लें कि वे चालू हालत में हैं या नहीं। मॉक ड्रिल की तैयारियों की भी जानकारी के साथ ही प्रशिक्षित किए गए पीआईसीयू स्टाफ का भी पर्यवेक्षण कर लें। जिले में बच्चों के चार पिडियाट्रिक इंसेंटिव केयर यूनिट ( पीआईसीयू ) हैं। 48 बेड इंसेण्टिव केयर यूनिट के हैं जो आक्सीजन और वेण्टीलेटर से लैस हैं। इनको प्रशिक्षित आईसीयू स्टाफ द्वारा 24 घण्टे संचलित किया जाता है ।