Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
अयोध्या में बनेगा अनूठा मंदिरों का संग्रहालय, प्राचीन शैलियों के मंदिरों के बनाए जाएंगे कई मॉडल अंसल एपीआई के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने कसा शिकंजा, पुलिस कमिश्नर से अंसल के खिलाफ लखनऊ में दर्ज मु... कोटे के दूकान के आवंटन की मांगः डीएम को सौंपा ज्ञापन सदर विधायक महेन्द्र यादव ने मो. सलीम, शैलेन्द्र को बनाया प्रतिनिधि अदालत के आदेश के बाद भी नहीं मिला जमीन पर कब्जा, डीएम ने दिया कार्रवाई का निर्देश बच्चों के साथ ससुराल में शान्ती देवी ने शुरू किया धरना शासन के निर्देश पर हुआ परिषदीय स्कूलों की साफ—सफाई 01 जुलाई से 30 सितंबर तक संचालित किया जाएगा संभव अभियान,चिन्हित किये जायेंगे अतिकुपोषित बच्चे : सीडी... प्रतापगढ़: सिपाही संजय यादव की हत्या के मामले मे शामिल चार आरोपी पुलिस हिरासत में अलर्ट: प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 682 नए मामले

राजकीय कृषि बीज भण्डार से उन्नतशील प्रमाणित बीज प्राप्त कर उत्पादकता में वृद्धि कर सकते है किसान

कबीर बस्ती न्यूज:

बस्ती: किसान घेरलू बीज के स्थान पर राजकीय कृषि बीज भण्डार से उन्नतशील प्रमाणित बीज प्राप्त कर उत्पादकता में 10 से 20 प्रतिशत की वृद्धि कर सकते है। उक्त जानकारी संयुक्त निदेशक, कृषि अविनाश चन्द्र तिवारी ने दी है। उन्होने बताया कि मण्डल में खरीफ सीजन के लिए धान की मुख्य प्रजाति साभा सब-1, बी.पी.टी.-5204, सी.ओ.-51, सियेट-1, सियेट-4, एच.के.आर.-47 आदि प्रजाति के आधारीय एवं प्रमाणित बीज की व्यवस्था करायी जा रही है। उन्होने बताया कि धान के बीज पर पूर्व वर्ष की भॉति 50 प्रतिशत अनुदान की सुविधा अनुमन्य है, जो डी.बी.टी. के माध्यम से खाते में भेजी जायेंगी।
उन्होने बताया कि प्रमाणित बीज में मोटे घान का मूल्य 35.55 रू0 प्रति किलोंग्राम तथा महीन धान का 35.81 रू0 प्रति किलोंग्राम निर्धारित है। उन्होने बताया कि किसान भाई ग्रीष्मकालीन भूमि की गहरी जुताई ढाल की विपरीत दिशा मे करें, जिससे खर-पतवार सूख जाये, कीडे़-मकोडे़ समाप्त हो जाय। इसके साथ ही वर्षा का जल रिसाव अच्छा होने तथा वायुमण्डल से सही जल प्राप्त होने से उर्वरक में वृद्धि तथा मृदा क्षरण में रूकावट हो।
उन्होने बताया कि किसान भाई खेतों की उर्वरता बढाने के लिए गोबर की सड़ी खाद अथवा ढैचा को हरी खाद के रूप में प्रयोग कर सकते है। सभी राजकीय कृषि बीज भण्डारों पर ढैचा का बीज उपलब्ध है, जिस पर 50 प्रतिशत अनुदान अनुमन्य है। उन्होने बताया है कि किसान भाई ढैचा, धान आदि बीज राजकीय कृषि बीज भण्डार से खरीद कर समय से मई के अन्तिम सप्ताह तक धान की नर्सरी अवश्य डाल दें तथा जून माह में 20 से 25 दिन की नर्सरी की 50 हिल्स प्रतिवर्ग मीटर में रोपाई करें।
उन्होने बताया कि कृषकगण धान की सीधी बुआई की अवस्था में बीज का 12 किलोग्राम प्रतिहेक्टेयर की दर से ड्रम सीडर से अन्कुरित बीज का भी सीधी बुआई कर सकते है। खर-पतवार नियंत्रण हेतु पेन्डीमेथलीन 30 प्रतिशत ई.सी. 1.5 लीटर प्रति एकड़ अथवा प्रिटलाक्लोर 30.7 प्रतिशत ई.सी. 1.25 लीटर रसायन 500 लीटर पानी में घोल बनाकर दो-तीन दिन के अन्दर छिड़काव करना चाहिए।