Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
मातृ शिशु स्वास्थ्य सेवाओं के लिए वरदान है एमसीपी कार्ड नवजात शिशु में जन्‍मजात विकृतियों को दूर करता है फोलिक एसिड गुरू जी की अकड पडी ढीली कर दिए गये निलम्बित दहेज उत्पीड़न के दो मामलों में 10 ससुरालियों पर केस पेन्शनर एसोसिएशन की बैठक 5 को पुरानी पेशन नीति बहाली की मांग को लेकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपेगे शिक्षक युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य एवं जीवन कौशल पर विशेष कार्यशाला का शुभारम्भ इलाज के दौरान समझा टीबी मरीजों का दर्द,  अब बने मददगार  नोडल अधिकारी नीना शर्मा ने रुधौली ब्लाक में चौपाल लगाकर सुनीं समस्याऐ जिले की नोडल अधिकारी के निरीक्षण में सब कुछ मिला गुड ही गुड

कृषक सम्मान समारोह मे सम्मानित किये गये प्रगतिशील किसान

कबीर बस्ती न्यूजः

बस्ती : पूर्व प्रधानमंत्री चौ0 चरण सिंह के जन्म दिवस के अवसर पर कृषक सम्मान समारोह तथा कृषि गोष्ठी का आयोजन भारत रत्न पं0 अटल बिहारी बाजपेयी प्रेक्षागृह में किया गया। मुख्य अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष संजय चौधरी, विधायक अजय सिंह, राजेन्द्र प्रसाद चौधरी, मण्डलयुक्त योगेश्वर राम मिश्र, जिलाधिकारी प्रियंका निंरजन ने दीप प्रज्जवलित कर तथा पूर्व प्रधानमंत्री के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।
अपने संबोधन में जिला पंचायत अध्यक्ष ने कहा कि चौधरी चरण सिंह उनके नाना स्वतंत्रता संग्राम सेनानी राम आसरे चौधरी के साथी थे। उन्होने कहा कि चौधरी चरण सिंह ने किसानों के हित में 1954 में उत्तर प्रदेश भूमि संरक्षण कानून को पारित कराया। उन्होने वाल्टरगंज चीनी मिल से संबंधित किसानों का गन्ना मूल्य का लगभग रू0 60 करोड़ का भुगतान कराने का अनुरोध किया।
मण्डलायुक्त ने कहा कि चौ0 चरण सिंह ने 1957 में कृषि विविधिकरण करके तथा खेती की लागत कम करके किसानों की आय बढाने की व्यवस्था की थी। उन्होने अधिकारियों को निर्देशित किया कि किसानों के बीच जाकर योजनाओं की जानकारी दें तथा उसका लाभ दिलाये। विधायक अजय सिंह ने किसानों को मोटा अनाज पैदा करने के लिए प्रेरित किया। विधायक रूधौली राजेन्द्र प्रसाद ने चौ0 चरण सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उन्होने लाखों गरीब खेतिहर, मजदूर किसान को ऋण मुक्त कराने के लिए ऋण निर्मोचन विधेयक पास कराया।
जिलाधिकारी ने कहा कि हमारे देश की 60 प्रतिशत से अधिक आबादी कृषि पर आधारित है। हमारे देश की संस्कृति कृषि प्रधान है। उन्होने आश्वस्त किया कि गन्ना किसानों के मूल्य का शीघ्र ही भुगतान की व्यवस्था करायी जायेंगी। उप निदेशक कृषि अनिल कुमार ने सभी का स्वागत किया।
किसान सम्मान योजनान्तर्ग (वित्तीय वर्ष 2022-23) में खरीफ 2022 में धान एवं उर्द में उपज हेतु जनपद स्तरीय पुरस्कार शेषनाथ चौधरी एवं जय प्रकाश को प्रथम तथा शोभापती एवं दिव्य प्रकाश को द्वितीय पुरस्कार दिया गया। रबी 2022-23 में सरसो/राई एवं गेहू में उपज हेतु राममिलन पाण्डेय एवं जलालुद्दीन को प्रथम तथा अमित कुमार एवं मुनिराम को द्वितीय पुरस्कार दिया गया।
किसान सम्मान योजनान्तर्ग प्राकृतिक खेती के लिए बाबूलाल को प्रथम व रघुवीर को द्वितीय पुरस्कार दिया गया तथा विशिष्ट श्रेणी महिला कृषको में उद्यान एवं गन्ना विभाग द्वारा लौकी, करैला एवं गन्ना की खेती के लिए कुसुमकली, निशा एवं कमला देवी, सावित्री देवी, अमिरता, प्रेमा देवी, सुनीता देवी, सवारी देवी को पुरस्कृत किया गया।
इस अवसर पर पशुपालन विभाग द्वारा गाय एंव भैस के दुग्ध उत्पादन हेतु रामउजागिर एवं राजेश्वर शुक्ला को प्रथम, अम्बर कुमार पाण्डेय एवं रामशोभा त्रिपाठी को द्वितीय तथा कुक्कुट एवं बकरी पालन के लिए कुसुमलता चौधरी एवं शेषराम को प्रथम तथा गुलाबदत्त एवं रामनयन को द्वितीय पुरस्कार दिया गया।
उद्यान विभाग द्वारा केला, लौकी, टमाटर एवं फूल गोभी की खेती के लिए विजयनारायण शुक्ल, राममूर्ति मिश्रा, जनकराम एवं सोबरन को प्रथम तथा शिवपूजन चौधरी, योगेन्द्र प्रसाद, रामकुमार एवं राजेन्द्र प्रसाद को द्वितीय पुरस्कार दिया गया। दुग्ध विभाग द्वारा गाय एवं भैंस के दुग्ध उपार्जन के लिए रामसूरत एवं विद्याराम को प्रथम तथा रूदल एवं जोगेन्द्र सिंह को द्वितीय पुरस्कार दिया गया। फैट व एस.एन.एफ. मात्रा के लिए सरोज सिंह व ज्ञानमती को प्रथम तथा सर्वजीत यादव व फुर्तलाल को द्वितीय पुरस्कार दिया गया।
कार्यक्रम का संचालन भूमि संरक्षण अधिकारी डा. राजमंगल चौधरी ने किया। गोष्ठी में सीडीओ डा. राजेश कुमार प्रजापति, सीआरओ नीता यादव, डीडीओ अजीत श्रीवास्तव, पीडी कमलेश सोनी, जनप्रतिनिधि जगदीश शुक्ल, शैलेन्द्र दूबे, फूल चन्द्र श्रीवास्तव, गुलाब चन्द्र सोनकर, कृषि विज्ञान केन्द्र के निदेशक डा. एस.एन.सिंह, संयुक्त निदेशक कृषि अविनाश चन्द्र तिवारी, कृषि अधिकारी मनीष सिंह एवं विभागीय अधिकारीगण उपस्थित रहे।
गोष्ठी के पहले सभी अतिथियों ने कृषि प्रदर्शनी का अवलोकन किया, जिसमें कृषि, उद्यान, रेशम, मत्स्य, पशुपालन, दुग्ध, एफ.पी.ओ. तथा निजी  कृषि प्रतिष्ठानों द्वारा आयोजित किया गया था। प्रगतिशील किसानों द्वारा कृषि यंत्रों का प्रदर्शन किया गया, जिसमें किसानों ने विशेष रूचि दिखायी।