Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
कुपोषण के साथ बीमारियों से भी बचाती है कीड़े मारने की दवा माध्यमिक शिक्षक संघ का वार्षिक सम्मेलन एवं विचार गोष्ठी सम्पन्न 7 दिवसीय धार्मिक अनुष्ठान 13 सेः भूमि पूजन में उमड़े श्रद्धालु पूंजीपती मित्रों को फायदा पहुंचाने के लिये देश के आर्थिक ढांचे का सत्यानाश कर रहे हैं पीएम: प्रेमशंक... प्रभारी मंत्री राकेश सचान 08 फरवरी को बस्ती में मण्डल में स्थापित किए जायेंगे 31 एग्री जंक्शन निर्माण कार्य अपूर्ण पाये जाने से डीएम खफा: वेतन रोकने के निर्देश “बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओं‘‘जन जागरूकता वाहन को डीएम ने दिखाई हरी झण्डी चित्रांश क्लब की ओर से ‘एक शाम शहीदों के नाम’’ कार्यक्रम आयोजित नहीं सुनी जा रही हैं पेन्शनर्स की समस्याः दिया आन्दोलन की चेतावनी

हर्रैया के फरार लेखा लिपिक नित्यानंद सिंह के खिलाफ दी तहरीर

कबीर बस्ती न्यूजः

बस्ती। नगर पंचायत हर्रैया के अनुचर की पिछले दिनों हुई मौत के मामले में फरार चल रहे आरोपी लेखा लिपिक नित्यानंद सिंह के खिलाफ सोमवार को हर्रैया थाने में एक और तहरीर दी गई। इसमें नगर पंचायत कार्यालय के वित्त एवं लेखा संबंधी कैशबुक गायब होने की बात लिखी गई है।
लेखा लिपिक के फरार होने की स्थिति में पिछले एक सप्ताह से उसके संबंधित अभिलेखों के हस्तांतरण की कवायद चल रही है। इस क्रम में कैशबुक सहित कई महत्वपूर्ण फाइलें नहीं मिल रही हैं। ऐसे में अधिशासी अधिकारी संजय राव ने सोमवार को थाने पर प्राथमिकी दर्ज कराने के लिए तहरीर दी है।

बता दें कि 14 दिसंबर को नगर पंचायत कार्यालय के अनुचर शिवम पाठक का शव रहस्यमय परिस्थितियों में मनोरमा नदी से निकली सोती से मिला था। 15 दिसंबर को शिवम की मां की तहरीर पर कार्यालय के लेखा लिपिक नित्यानंद सिंह पर हत्या का केस दर्ज हुआ, जिसके बाद से ही वह कार्यालय से लापता हो गया। इसी बीच सभासदों व अध्यक्ष के बीच विवाद हो गया। सभासदों ने धरना शुरू कर दिया। धरना समाप्त करने के लिए सभासदों ने कैशबुक सामने लाने की शर्त रखी।
ऐसे में एसडीएम के निर्देश पर नगर पंचायत के नियमित लिपिक राजेश्वर सिंह को नित्यानंद सिंह का चार्ज सौंपने की प्रक्रिया शुरू हुई। एसडीएम ने अधिशासी अधिकारी को कैशबुक उपलब्ध कराने को कहा, मगर ईओ और नगर पंचायत अध्यक्ष इस बारे में कोई संतोषजनक जबाव नहीं दे पाए।

इस बीच सोमवार को गायब कैशबुक को लेकर अधिशासी अधिकारी व कार्यालय के कर्मियों ने रखी आलमारियों को खंगाला, मगर कैशबुक का पता नहीं चला। सूत्रों की मानें तो कई अन्य महत्वपूर्ण फाइलें भी कार्यालय से गायब है। सभासदों ने कैशबुक गायब होने की सूचना एसडीएम को दी। एसडीएम ने अधिशासी अधिकारी को इस बावत केस दर्ज कराने का निर्देश दिया। इसके बाद देर शाम ईओ संजय राव तहरीर लेकर थाने पहुंचे।
ईओ ने बताया कि सभी अभिलेखों के सुरक्षा का दायित्व लेखा लिपिक के जिम्मे था। एसएचओ शैलेश सिंह का कहना है कि तहरीर पर उचित कार्रवाई की जा रही है।