Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
लंदन की डिग्री, गोल्ड मेडल से सम्मानित हुये डा. वी.के. वर्मा वंचित छात्रों को शुल्क प्रतिपूर्ति, छात्रवृत्ति दिलाने की मांग को लेकर पद यात्रा निकालेगी मेधा सफाई कर्मचारी संघ: डीपीआरओ को सौंपा 12 सूत्रीय ज्ञापन, समस्याओं के निस्तारण की मांग पीएम आयुष्मान योजना: पहले से बना था कार्ड, मिला आयुष्मान का वरदान आदर्श पौधशाला तथा राजकीय सार्वजनिक उद्यान चंगेरवा का डीएम ने किया निरीक्षण डीएम के निर्देश पर रूधौली तहसील मे चला बृहद अवैध अतिक्रमण हटाओ अभियान डीएम ने दिया वाल्टरगंज चीनी मिल के कर्मचारियों का वेतन दिलाने का आश्वासन बीआरसी में तीन दिवसीय टीएलएम निर्माण कार्यशाला शुरू संविदा कर्मियों से परिषदीय शिक्षकों, शिक्षा मित्रों, अनुदेशकों की जांच का मामला गरमाया गांव – गांव में परिवार नियोजन की अलख जगा रहा है सारथी वाहन

नवरात्रि व्रत, माहे रमजान में डा. वी.के. वर्मा ने दिया विशेष खान पान की सलाह

संवाददाता,बस्ती। चैत्र नवरात्रि और रमजान में  लोगों को अपने खान-पान पर विशेष ध्यान देना चाहिये। वरिष्ठ होम्योपैथिक चिकित्सक एवं केंद्रीय होम्योपैथी परिषद के सदस्य डॉ अनुरूद्ध वर्मा एवं जिला अस्पताल में  आयुष चिकित्साधिकारी डॉ वी के वर्मा ने व्रतधारियांे और रोजा रखने वालों को खान पान में विशेष ध्यान देने की जानकारी दी।
डा. अनुरूद्ध वर्मा एवं डॉ वी के वर्मा ने संयुक्त रूप से बताया कि इस बार चैत्र नवरात्रि और  माहे रमजान की शुरुवात ऐसे समय पर हो रही है जब देश में कोरोना की दूसरी लहर चल रही है। भीषण गर्मी एवं धूप  के इस मौसम में    व्रतधारियों और रोजेदारों को अपनी सेहत पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।  कोरोना बीमारी से बचने लिये घर मे ही रह कर पूजा पाठ, इबादत एवं नमाज अदा करना चाहिये। बताया कि शरीर की  रोग  प्रतिरोधक क्षमता  बढ़ाये एवं बनाये रखने के लिए अपने भोजन में पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी युक्त फलों जैसे नीबूं,संतरा,मौसमी,नारंगी के साथ मौसमी फलों,साबुत अनाज,शर्बत, फलों का रस,दूध,लस्सी, दही को भी पर्याप्त मात्रा में शामिल करना चाहिए।
बताया  कि जहां तक संभव हो गर्भवती एवम  दूध पिलाने  वाली महिलाओं, अशक्त एवं गंभीर बीमार बुजुर्गों,अनियंत्रित मधुमेह तथा उच्च रक्तचाप के रोगियों,बच्चों एवं कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले व्यक्तियों को व्रत व रोजे रखने से बचना  चाहिए। उन्होंने रोजेदारों  को अपनी दवाईयों को नियमित रूप से लेते रहने की सलाह दी। बताया कि इस भीषण गर्मी में शरीर  में पानीएवं लवणों आदि की कमी न हो इसके लिए  पर्याप्त पानी पीना चाहिए तथा इफ्तार एवम सहरी में नीबूं-पानी,शरबत, शिकंजी,तरबूज,खीरा,ककड़ी,केला का भरपूर सेवन करना चाहिए तथा कोशिश करना चाहिये कि  दिन में कम से  लगभग कम 3-4 लीटर पानी अवश्य पीयें। उन्होंने कहा कि खजूर  अवश्य  खाना चाहिए क्योंकि उसमें पर्याप्त ऊर्जा,पोटैशियम एवं अन्य पोषक तत्वों के साथ-2 फाइबर भी  होतें हैं ।
उन्होंने घी,तेल,मसालों,ज्यादा नमक वाली चीजों एवम कोर्बोनेटेड पेय जैसे कोल्ड ड्रिंकआदि पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए क्योंकि यह सेहत के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं।उन्होंने कहा कि रोजा खोलते में
शिकंजी-नींबू,चीनी एवम पानी का प्रयोग अवश्य करना चाहिए। उन्होंने खुले,हवादार कमरें में रहने और शारीरिक क्रियाकलापों ,व्यायाम,प्राणायाम,योग और ध्यान  आदि नियमित रूप से करने की सलाह दी।
उन्होंने ने  रमजान माह में कोरोना महामारी से बचने के लिए मास्क लगाने,घरों में ही रहने घर मे ही इबादत करने ,बार-बार साबुन से  हाथ धोने या अल्कोहलयुक्त सेनेटाइजर का प्रयोग करने ,शारीरिक दूरी बनाए रखने और सदा सकारात्मक सोचने की सलाह दी है।