Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
सिद्वार्थनगर पहुंची राज्यपाल श्रीमती आनन्दी बेन पटेल, कार द्वारा बौद्ध तीर्थ लुम्बिनी के लिए प्रस्था... मनरेगा से स्वीकृत 24 में से मात्र 08 कार्य पूर्ण होने पर जिलाधिकारी ने व्यक्त किया असंतोष बैठक मे लिया गया मशरूम तथा काला नमक की खेती को बढावा देने का लिए निर्णय टेढे-मेढे पैर वाले बच्चो के उपचार के लिए की जायेंगी परिवारों की काउंसलिंग 40 दिव्यांगजनो को मिला ट्राईसाइकिल मार्ग दुर्धटना मे घायल हे0कां0 गोविन्द कुमार की मौत, पार्थिव शरीर को एसपी ने दी सलामी कांग्रेस जिला कार्यकारिणी का विस्तार, उपाध्यक्ष, महासचिव, सचिव, कोषाध्यक्ष घोषित अधिवक्ता दिवस के रूप में प्रथम राष्ट्रपति डा.राजेन्द्र प्रसाद को जयन्ती पर किया नमन् जयन्ती पर याद किये गये प्रथम राष्ट्रपति डा. राजेन्द्र प्रसाद फोकस्ड सैम्पलिंग के जरिए माप रहे कोरोना का प्रभाव

 रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए किया जा रहा औषधियों का वितरण

– भारत सरकार के आयुष मंत्रालय ने जारी किया है दिशा-निर्देश
– दवा वितरण के लिए लगाए गए हैं आयुर्वेदिक अस्पतालों के चिकित्सक
बस्ती।  कोविड के तेजी से बढ़ते मामलों के बीच आयुष मंत्रालय भारत सरकार ने दिशा-निर्देश जारी किया है। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए औषधियों का वितरण किया जाएगा। इसके लिए राजकीय आयुर्वेदिक अस्पतालों में तैनात चिकित्सकों व स्टॉफ को लगाया गया है। राजकीय आयुर्वेदिक अस्पताल कोर्ट एरिया के प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ.. वीके श्रीवास्तव ने बताया कि कोविड के बढ़ते मामलों को देखते हुए इससे बचाव बहुत जरूरी है।
कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के साथ ही लोगों को शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की सलाह दी जा रही है। इसके लिए आयुष मंत्रालय के निर्देश पर दवा वितरण का कार्यक्रम भी शुरू किया गया है। रोग प्रतिरोधक औषधि संशमनी बटी, आयुष-64, अणु तैल, अगस्त्य हरीतकी का वितरण किया जा रहा है। इसके अलावा अन्य रोग की दवाओं की आवश्यकता होने पर अस्पताल द्वारा उन्हें भी उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सभी राजकीय आयुर्वेदिक अस्पतालों के बाहर प्रभारी चिकित्सा अधिकारी का मोबाइल नंबर अंकित है।
इस नंबर पर संपर्क कर आप सहयोग मांग सकते हैं। अस्पताल में मरीजो के लिए दवाओं का किट तैयार किया जाएगा। चिकित्सक के बताए समय पर  अस्पताल पहुंचकर और अपना आधार कार्ड दिखाकर दवाएं प्राप्त कर सकते हैं। कंटेंनमेंट जोन में रहने वालों, हाई रिस्क वाले मरीज व बुजुर्ग को विशेष रूप से यह सुविधा प्रदान की जा रही है। उन्होंने बताया कि बहुत से घरेलू नुस्खे इस बीमारी से बचाव में कारगर हैं। चिकित्सकों द्वारा घरेलू नुस्खों पर विशेष जोर दिया जा रहा है, जिससे लोग घर से निकले बिना ही अपना बचाव कर सकें।
निदेशालय को देनी होगी मरीजों की सूचना
चिकित्सा अधिकारी से संपर्क करने वाले मरीजों की सूचना निदेशक आयुर्वेदिक सेवाओं को देनी होगी। निदेशालय की ओर से भेजे गए फार्मेट पर हर बुधवार व शनिवार को यह सूचना प्रेषित की जाएगी। इस सूचना में महिला, पुरूष व बच्चों की अलग-अलग संख्या, वितरित की गई औषधि का विवरण सहित अन्य सूचनाएं देनी होंगी। उच्च स्तर पर इसकी निगरानी की जाएगी।

 

 

Leave A Reply

Your email address will not be published.