Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
100 करोड़ कोविड टीकाकरण में जिले ने दिया 8.55 लाख का योगदान 28 अक्टूबर से 4 नवंबर तक किया जाएगा दीपावली मेला का आयोजन पौराणिक कूओ का जीर्णोद्धार एवं वृक्षारोपण कार्यक्रम का शुरुआत ई-प्राजीक्यूशन पोर्टल पर नियमित रूप से मुकदमों का विवरण अपलोड करने के निर्देश कांग्रेस की बैठक में बनी प्रियंका गांधी के रैली की रणनीति श्री रामलीला महोत्सव में धनुषयज्ञ व परशुराम लक्ष्मण संवाद की लीला का हुआ मंचन,श्रद्धालु हुए मंत्रमुग... डियूटी मे लापरवाही बरतने वाले 7 पुलिस कर्मियों पर गिरी निलम्बन की गाज, विभागीय जांच शुरू कोरोना से बचने के लिए शुरु हुई फेस्टिवल फोकस्ड सैम्पलिंग प्रत्येक ब्लाक में प्रतिदिन 05 हजार कोविड टीकाकरण का लक्ष्य पूरा करने के निर्देश अतिवृष्टि से खराब हुयी फसल की क्षतिपूर्ति प्राप्त करने के लिए निर्धारित प्रारूप पर आवेदन कर सकते हैं...

धान की नर्सरी डालने के पूर्व बीज शोधन एवं भूमि शोधन जरूरी

स्ंावाददाता,बस्ती। उप कृषि निदेशक (कृषि रक्षा) ने जनपद के किसान भाईयों से अपील किया है कि खरीफ में धान की नर्सरी डालने के पूर्व बीज शोधन/भूमि शोधन अवश्य करें। उन्होने बताया है कि भूमि शोधन की प्रक्रिया में भू-जनित कीट/रोगो के नियंत्रण हेतु ट्राईकोडरमा/ब्यूबैरिया वैंसियाना बायोपेस्टीसाइडस् की 2.5 से 3 किलोग्राम मात्रा अथवा क्लोरपायरीफास 20 प्रति ई0सी0 2.5 से 3 लीटर मात्रा प्रति हेक्टेयर की दर से प्रयोग करें।
उन्होने बताया कि बीज शोधन के लिए ट्राईकोडरमा की 100 ग्राम मात्रा 25 किलोग्राम बीज की मात्रा की दर से प्रयोग किया जा सकता है। जीवाणु झुलसा/जीवाणुधारी रोग/फाल्स स्मट रोग के नियंत्रण हेतु 25 किलोग्राम बीज के लिए 04 ग्राम स्टेªप्टोसाइक्लीन या 40 ग्राम प्लान्टोमाइसीन या 75 ग्राम थीरम या 50 ग्राम कार्बेडाजिम 50 प्रति डब्लू0पी0 को 8-10 लीटर पानी में रात भर भिगोकर दूसरे दिन छाया में सुखाकर नर्सरी डालें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.