Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
प्रदेश मे चली धूल भरी आंधी जबरदस्त बारिश निगल गयी 25 लोगों की जान, कई घायल स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की बातों का करें सम्मान- सीएमओ सामन्यतया खान पान और अनियंत्रित दिनचर्या पथरी का कारण: डा. वी.के. वर्मा कार्यशाला में माइक्रोप्‍लान, कम्‍युनिकेशन प्‍लान तथा वैक्‍सीन के रखरखाव के बारे में दी गयी जानकारी सफाई कर्मचारी संघ पदाधिकारियों को दिलाया शपथ कवि सम्मेलन मुशायरे में सम्मानित हुई विभूतियां आज़म खान की जेल से रिहाई से समर्थकों ने किया खुशी का इजहार सफाई कर्मियों की बैठक में उठे मुद्दे, 8 सूत्रीय मांगों पर चर्चा बस्ती उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल की बैठक में सम्बन्धित विषयों पर चर्चा सीएम ने विधायकों को चेताया, कहा ठेका पट्टा, ट्रांसफर व पोस्टिंग से दूर रहें विधायक

धान की नर्सरी डालने के पूर्व बीज शोधन एवं भूमि शोधन जरूरी

स्ंावाददाता,बस्ती। उप कृषि निदेशक (कृषि रक्षा) ने जनपद के किसान भाईयों से अपील किया है कि खरीफ में धान की नर्सरी डालने के पूर्व बीज शोधन/भूमि शोधन अवश्य करें। उन्होने बताया है कि भूमि शोधन की प्रक्रिया में भू-जनित कीट/रोगो के नियंत्रण हेतु ट्राईकोडरमा/ब्यूबैरिया वैंसियाना बायोपेस्टीसाइडस् की 2.5 से 3 किलोग्राम मात्रा अथवा क्लोरपायरीफास 20 प्रति ई0सी0 2.5 से 3 लीटर मात्रा प्रति हेक्टेयर की दर से प्रयोग करें।
उन्होने बताया कि बीज शोधन के लिए ट्राईकोडरमा की 100 ग्राम मात्रा 25 किलोग्राम बीज की मात्रा की दर से प्रयोग किया जा सकता है। जीवाणु झुलसा/जीवाणुधारी रोग/फाल्स स्मट रोग के नियंत्रण हेतु 25 किलोग्राम बीज के लिए 04 ग्राम स्टेªप्टोसाइक्लीन या 40 ग्राम प्लान्टोमाइसीन या 75 ग्राम थीरम या 50 ग्राम कार्बेडाजिम 50 प्रति डब्लू0पी0 को 8-10 लीटर पानी में रात भर भिगोकर दूसरे दिन छाया में सुखाकर नर्सरी डालें।

Leave A Reply

Your email address will not be published.