Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
मातृ शिशु स्वास्थ्य सेवाओं के लिए वरदान है एमसीपी कार्ड नवजात शिशु में जन्‍मजात विकृतियों को दूर करता है फोलिक एसिड गुरू जी की अकड पडी ढीली कर दिए गये निलम्बित दहेज उत्पीड़न के दो मामलों में 10 ससुरालियों पर केस पेन्शनर एसोसिएशन की बैठक 5 को पुरानी पेशन नीति बहाली की मांग को लेकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपेगे शिक्षक युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य एवं जीवन कौशल पर विशेष कार्यशाला का शुभारम्भ इलाज के दौरान समझा टीबी मरीजों का दर्द,  अब बने मददगार  नोडल अधिकारी नीना शर्मा ने रुधौली ब्लाक में चौपाल लगाकर सुनीं समस्याऐ जिले की नोडल अधिकारी के निरीक्षण में सब कुछ मिला गुड ही गुड

धान की नर्सरी डालने के पूर्व बीज शोधन एवं भूमि शोधन जरूरी

स्ंावाददाता,बस्ती। उप कृषि निदेशक (कृषि रक्षा) ने जनपद के किसान भाईयों से अपील किया है कि खरीफ में धान की नर्सरी डालने के पूर्व बीज शोधन/भूमि शोधन अवश्य करें। उन्होने बताया है कि भूमि शोधन की प्रक्रिया में भू-जनित कीट/रोगो के नियंत्रण हेतु ट्राईकोडरमा/ब्यूबैरिया वैंसियाना बायोपेस्टीसाइडस् की 2.5 से 3 किलोग्राम मात्रा अथवा क्लोरपायरीफास 20 प्रति ई0सी0 2.5 से 3 लीटर मात्रा प्रति हेक्टेयर की दर से प्रयोग करें।
उन्होने बताया कि बीज शोधन के लिए ट्राईकोडरमा की 100 ग्राम मात्रा 25 किलोग्राम बीज की मात्रा की दर से प्रयोग किया जा सकता है। जीवाणु झुलसा/जीवाणुधारी रोग/फाल्स स्मट रोग के नियंत्रण हेतु 25 किलोग्राम बीज के लिए 04 ग्राम स्टेªप्टोसाइक्लीन या 40 ग्राम प्लान्टोमाइसीन या 75 ग्राम थीरम या 50 ग्राम कार्बेडाजिम 50 प्रति डब्लू0पी0 को 8-10 लीटर पानी में रात भर भिगोकर दूसरे दिन छाया में सुखाकर नर्सरी डालें।