Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
लंदन की डिग्री, गोल्ड मेडल से सम्मानित हुये डा. वी.के. वर्मा वंचित छात्रों को शुल्क प्रतिपूर्ति, छात्रवृत्ति दिलाने की मांग को लेकर पद यात्रा निकालेगी मेधा सफाई कर्मचारी संघ: डीपीआरओ को सौंपा 12 सूत्रीय ज्ञापन, समस्याओं के निस्तारण की मांग पीएम आयुष्मान योजना: पहले से बना था कार्ड, मिला आयुष्मान का वरदान आदर्श पौधशाला तथा राजकीय सार्वजनिक उद्यान चंगेरवा का डीएम ने किया निरीक्षण डीएम के निर्देश पर रूधौली तहसील मे चला बृहद अवैध अतिक्रमण हटाओ अभियान डीएम ने दिया वाल्टरगंज चीनी मिल के कर्मचारियों का वेतन दिलाने का आश्वासन बीआरसी में तीन दिवसीय टीएलएम निर्माण कार्यशाला शुरू संविदा कर्मियों से परिषदीय शिक्षकों, शिक्षा मित्रों, अनुदेशकों की जांच का मामला गरमाया गांव – गांव में परिवार नियोजन की अलख जगा रहा है सारथी वाहन

30 जून तक पचपेडिया सडक निर्माण पूरा कराने की मांग

01 जुलाई से होगा बृहद आन्दोलन, प्रशासन को चेतावनी

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। पचपेड़िया रोड के निर्माण की मांग को लेकर व्यापार मंडल एक बार फिर सक्रिय हुआ है। बस्ती उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के जिलाध्यक्ष आनंद राजपाल के नेतृत्व में पदाधिकारियों ने ज्ञापन देकर 30 जून तक सड़क निर्माण पूरा कराने की मांग किया। अन्यथा की स्थिति में 01 जुलाई से जिलाधिकारी कार्यालय पर धरना प्रदर्शन की बात कही।
आपको बता दें शहर को एनएच से जोड़ने वाला प्रमुख मार्ग पचपेड़िया रोड वर्षों से बदहाल है। सड़क गड्ढों में तब्दील हो चुकी है, धूल मिट्टी, और जलनिकासी का उत्तम प्रबंध न होने से नागरिकों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इस मार्ग पर कई अस्पताल, नामचीन स्कूल, एजेंसियां और व्यापारिक प्रतिष्ठान हैं। सड़क निर्माण की मांग को लेकर अनेकों बार धरना प्रदर्शन हुये हैं। दो बार बजट भी आवंटित हुआ है लेकिन न जाने किस वजह से सड़क नही बन पा रही है। विगत 09 अप्रैल को पचपेड़िया रोड के निवासियों, व्यापारियों व छात्र छात्राओं ने रास्ता जाम कर धरना प्रदर्शन किया था।
मौके पर पहुंचे अपर जिलाधिकारी एवं ईओ नगरपालिका ने पंचायत चुनाव का हवाला देते हुये 31 मई तक सड़क निर्माण पूरा कराने का वादा कर धरना प्रदर्शन खत्म कराया था। पूर्व में किये गये तमाम वादों की तरह यह वादा भी झूठा निकला। व्यापार मंडल के नगर अध्यक्ष सुनील कुमार गुप्ता, संजय अग्रहरि आदि ने कहा स्थानीय प्रशासन और जन प्रतिनिधियों को मिलकर इस गंभीर समस्या का समाधान निकालना चाहिये। जनता से हर प्रकार के टैक्स लिये जा रहे हैं, सरकार और प्रशासन जब चाहता है नागरिकों के विरूद्ध कार्यवाही करने में देरी नही करता किन्तु जब बुनियादी सुविधायें देने की बात आती है तो लोग मौन हो जाते हैं।