Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
मातृ शिशु स्वास्थ्य सेवाओं के लिए वरदान है एमसीपी कार्ड नवजात शिशु में जन्‍मजात विकृतियों को दूर करता है फोलिक एसिड गुरू जी की अकड पडी ढीली कर दिए गये निलम्बित दहेज उत्पीड़न के दो मामलों में 10 ससुरालियों पर केस पेन्शनर एसोसिएशन की बैठक 5 को पुरानी पेशन नीति बहाली की मांग को लेकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपेगे शिक्षक युवाओं के मानसिक स्वास्थ्य एवं जीवन कौशल पर विशेष कार्यशाला का शुभारम्भ इलाज के दौरान समझा टीबी मरीजों का दर्द,  अब बने मददगार  नोडल अधिकारी नीना शर्मा ने रुधौली ब्लाक में चौपाल लगाकर सुनीं समस्याऐ जिले की नोडल अधिकारी के निरीक्षण में सब कुछ मिला गुड ही गुड

विश्व संवाद परिषद योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा प्रकोष्ठ का वेबीनार सम्पन्न

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। विश्व संवाद परिषद योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित वेबीनार के तीसरे दिन मंत्रोचार द्वारा दीप प्रज्वलन बहन डॉ वंदना त्यागी के माध्यम से डॉ आर एस डवास के कर कमलों द्वारा किया गया। परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगाचार्य डॉ रमेश चंद्रा द्वारा एक भोजपुरी योग गीत के साथ वेबीनार का शुभारंभ किया गया। आज के मुख्य वक्ता प्रोफेसर डॉ एन पी सिंह जो अखिल भारतीय प्राकृतिक चिकित्सा परिषद के महामंत्री हैं ने शरीर की प्रतिरोधक क्षमता और उसके परे विषय पर वैज्ञानिक दृष्टिकोण से समझाने का प्रयास किया और बताया आज लोग इम्यूनिटी बढ़ाने के चक्कर में लोगों के बताए गए नुस्खे इधर-उधर चीजों का ज्यादा इस्तेमाल कर रहे हैं जिसकी वजह से शरीर में फायदा के बजाय नुकसान हो रहा है।हमारी मिलिट्री हमारे अंदर होमस्टेसिस के रूप में उपस्थित है जब जरूरत पड़ती है तो वह रोगों से लड़ने के लिए तैयार रहती है। ध्यान द्वारा हमें इस स्थूल शरीर से सूक्ष्म शरीर की ओर जाना होगा और अंदर निहित ब्रह्मांड की उर्जा को लाना होगा। तब हमारा शरीर पूरी तरह से ऊर्जावान बनेगा। इसके बाद इसके बाद बहन रुचिता जी के माध्यम से भाई सुनील भल्ला जी ने बहुत ही अच्छी तरीके से योग पर अपना प्रदर्शन किया जिसमें योग प्राणायाम आसन एवं ओंकार ध्यान को बारीकी से समझाया। इसके बाद उत्तर प्रदेश अध्यक्षा बहन प्रोफेसर डॉ अर्चना दुबे जीने कार्यक्रम की समीक्षा की एवं एक्यूप्रेशर विषय किस प्रकार योग से जुड़ा हुआ है उस पर चर्चा की यह हमारी प्राचीनतम पद्धति है कहीं विदेश की नहीं है इसके माध्यम से मेडिसिन फ्री इंडिया बिना दवा का इलाज हो सकता है और भारत आत्मनिर्भर बन सकता है यह हमारे उपनिषदों और आयुर्वेद में सूची भेदन के नाम से प्रसिद्ध है भगवान श्री कृष्ण के तलवे में बांण लगने के कारण उनकी मृत्यु हुई वह किडनी का नंबर 1 एनर्जी पॉइंट है जो प्राणघातक भी होता है नाभि हमारा सृजन का केंद्र है पूरी विटामिन की जगह वही है। वही के अमृत पर बाण मारकर रावण को भगवान राम ने वध किया। भगवान राम द्वारा अहिल्या उद्धार एवं भगवान कृष्ण द्वारा कुब्जा का कूवड ठीक होना ।इन सारी चीजों को योग और एक्यूप्रेशर से जोड़कर बहुत ही अच्छे ढंग से विस्तार में बताया।वेबीनार बहुत ही सुंदर रहा और बहुत से लोगों ने इसमें जुड़कर अपना ज्ञानार्जन किया। संचालन वरिष्ठ योग एवं प्राकृतिक चिकित्सक एवं दिल्ली प्रदेश की महासचिव डॉ वंदना त्यागी जी ने बहुत सुंदर ढंग से किया कार्यक्रम के अंत में परिषद के राष्ट्रीय महासचिव डॉ नवीन सिंह ने सभी का आभार करते हुए धन्यवाद ज्ञापित किया उन्होंने कहा योग हमारी धरोहर है और हमें इस को अपनाना चाहिए और अपने जीवन शैली में बदलाव लाना चाहिए तभी हम हमारा समाज और भारत समृद्धि बनेगा। इस बेबनार में पूरे भारत से सरिता पटेल, किरण, सूर्यनाथ प्रजापति, राजेश जी, अभिषेक सीमा त्रिपाठी ,सूर्या, डॉक्टर सत्येंद्र कुमार आकाश जायसवाल सहित अनेकों लोग उपस्थित थे।