Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
सपा की बैठक में निकाय चुनाव पर चर्चाः जावेद पिण्डारी, समीर चौधरी निकाय चुनाव प्रभारी बने अनिश्चितकालीन पूर्ण कार्य बहिष्कार करने के दृष्टिगत सभी विद्युत उपकेन्द्रों पर जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रे... अवैध अतिक्रमण करने वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर दर्ज कराएं एफआईआर: डीएम निकाय चुनाव के लिये ‘आप’ ने झोंकी ताकत, कार्यकर्ता सम्मेलन में बनी रणनीति जयन्ती पर याद किये गये प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद गोष्ठी के माध्यम से किसानों को दी गयी महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी दीदी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा विश्व विकलांग दिवस पर पर दिव्यांगों को किया गया सम्मानित पत्नी के अपहरण की आशंका, पति ने लगाया न्याय की गुहार सिर्फ रक्त और यौन सम्पर्क से फैलता है एड्स, मरीजों से न करें भेदभाव विश्व एड्स दिवस: डीएम ने फीता काटकर किया हस्ताक्षर अभियान का शुभारंभ

बीआरसी केन्द्रों पर बैठक कर शिक्षकों ने बनाया संघर्ष की रणनीति

21 विन्दुओं, समस्याओं पर हुआ विमर्श

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती, उ0प्र0।

उ0प्र0 प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ प्रदेश नेतृत्व के आवाहन पर बुधवार को जनपद के शिक्षकांे ने जिलाध्यक्ष चन्द्रिका सिंह के संयोजन में 21 सूत्रीय मांगों को लेकर सभी 14  बीआरसी पर पर्यवेक्षकों की देखरेख में शिक्षक समस्याओं पर विमर्श किया।
संघ के जिला मंत्री बालकृष्ण ओझा ने बताया कि पुरानी पेंशन नीति बहाल किये जाने, कैशलेश चिकित्सा, जनपद के भीतर स्थानान्तरण, अनुदेशकों एवं शिक्षा मित्रों के नियमितीकरण, शिक्षकों की पदोन्नति, उर्पाजित अवकाश, विद्यालयों में पर्याप्त शिक्षकों, रसोईयों का मानदेय 10 हजार किये जाने आदि विन्दुओं पर जिला स्तर पर नामित पर्यवेक्षकों की उपस्थिति में वीआरसी केन्द्रों पर बैठके हुई।
बताया कि चन्द्रिका सिंह कुदरहा, बालकृष्ण ओझा परसरामपुर, दुर्गेश यादव रामनगर, सुधीर तिवारी बहादुरपुर, शिव प्रकाश सल्टौआ गोपालपुर, श्रुति त्रिपाठी – साऊंघाट, अनिल पाठक कप्तानगंज, शिवपूजन आर्य दुबौलिया, गिरजेश चौधरी बनकटी, रामसागर वर्मा हर्रैया, सन्तोष पाण्डेय- विक्रमजोत, अविनाश दूबे रूधौली और अखिलेश पाण्डेय के संयोजन में गौर बीआरसी पर बैठके हुई।
बैठकों में संघ पदाधिकारियों और शिक्षकों ने 21 विन्दुओं पर गहन विचार किया। इसके आधार पर आगामी संघर्ष की रणनीति तंय की जायेगी। जिला कोषाध्यक्ष दुर्गेश यादव ने बताया कि बैठकों मंें संघ की सदस्यता सुनिश्चित करने पर जोर दिया गया।