Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
श्री अग्रसेन जी महाराज जयन्ती पर मरीजों में किया फल का वितरण दौड़ में संध्या, अंशू रहीं अव्वल, रेवरादास, निदूरी टीम का रहा दबदबा राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद साऊंघाट के  अधिवेशन में उठा पुरानी पेंशन नीति का मुद्दा 70 की उम्र में दी टीबी को मात..... बीपीएम ने गोद लेकर टीबी मरीज की की थी मदद 1 अक्टूबर को किसान मोर्चा द्वारा बृहद वृक्षारोपण कराने की बनी योजना सांसद ने किया गांव के लोगों के जीवन में गुणात्मक और रचनात्मक परिवर्तन लाने के लिए पूरी ईमानदारी और न... जनपद न्यायाधीश व जिलाधिकारी ने संयुक्त रूप से किया राजकीय सम्प्रेक्षण गृह (किशोर) का औचक निरीक्षण जिलाधिकारी कार्यालय पर होता है मुख्यमंत्री पोर्टल का मजाक मातृ-शिशु स्वास्थ्य के लिए मिसाल बनीं डॉ शशि सिंह 1 से 31 अक्टूबर तक चलाया जाएगा विशेष संचारी रोग नियन्‍त्रण अभियान

खैर इण्डस्ट्रियल इन्स्टीट्यूशन सोसायटी के सदस्य पर लगाया मनमानी का आरोप

सोसायटी के नवीनीकरण को रद्द किये जाने की मांग

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

खैर इण्डस्ट्रियल इन्स्टीट्यूशन सोसायटी के सदस्य अब्दुल्लाह ने सहायक रजिस्टार फर्म्स सोसायटीज एण्ड चिट्स गोरखपुर को रजिस्टर्ड पत्र भेजकर हमीदुल्ला खां द्वारा तथ्योें को छिपाकर 14 जुलाई 2021 को कराये गये सोसायटी के नवीनीकरण को रद्द किये जाने का आग्रह किया है।
भेजे पत्र में सदस्य अब्दुल्लाह ने कहा है कि खैर इण्डस्ट्रियल इन्स्टीट्यूशन सोसायटी के बाइलाज का रजिस्टेªशन 31 जुलाई 1946 को किया गया था। गत तीन वर्षो से हमीदुल्ला खां ने प्रबन्ध समिति की बैठक 15-09-1984 की कार्यवृत्ति जिसके तहत 53 सदस्य बनाये गये हैं की सत्यापित प्रति उपलब्ध नहीं कराया। 17 दिसम्बर 17 को चुनाव के बाद उन्होने न तो कोई बैठक बुलाया न चुनाव कराया और न ही सदस्य बनाये गये हैं।
पत्र में सदस्य अब्दुल्लाह ने कहा है कि हमीदुल्ला खां द्वारा 56 सदस्यों में से 17 नवीन सदस्य जो 14 जुलाई 2021 को बनाये गये हैं उनमें से अधिकांश इनके घर-परिवार, रिश्तेदारों के नाम अंकित हैं। सहायक रजिस्टार फर्म्स सोसायटीज एण्ड चिट्स गोरखपुर कार्यालय को धोखे में रखकर पंजीकरण कराया गया जो पूर्णतया फर्जी है। यही नहीं इनका कार्यकाल 16 दिसम्बर 2020 को पूरा हो चुका है। तीन वर्ष पूर्ण होने के पश्चात अभी तक शिक्षा विभाग द्वारा कोई चुनाव नहीं कराया गया।
सदस्य अब्दुल्लाह ने मांग किया है कि 14 जुलाई 2021 को कराया गया पंजीकरण निरस्त कर दिया जाय क्योंकि जो 17 नये सदस्य बनाये गये हैं वे फर्जी है।  कार्यकाल पूरा होने के बाद उनके पास पंजीकरण कराने का विधिक अधिकार ही नहीं है।