Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
श्री अग्रसेन जी महाराज जयन्ती पर मरीजों में किया फल का वितरण दौड़ में संध्या, अंशू रहीं अव्वल, रेवरादास, निदूरी टीम का रहा दबदबा राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद साऊंघाट के  अधिवेशन में उठा पुरानी पेंशन नीति का मुद्दा 70 की उम्र में दी टीबी को मात..... बीपीएम ने गोद लेकर टीबी मरीज की की थी मदद 1 अक्टूबर को किसान मोर्चा द्वारा बृहद वृक्षारोपण कराने की बनी योजना सांसद ने किया गांव के लोगों के जीवन में गुणात्मक और रचनात्मक परिवर्तन लाने के लिए पूरी ईमानदारी और न... जनपद न्यायाधीश व जिलाधिकारी ने संयुक्त रूप से किया राजकीय सम्प्रेक्षण गृह (किशोर) का औचक निरीक्षण जिलाधिकारी कार्यालय पर होता है मुख्यमंत्री पोर्टल का मजाक मातृ-शिशु स्वास्थ्य के लिए मिसाल बनीं डॉ शशि सिंह 1 से 31 अक्टूबर तक चलाया जाएगा विशेष संचारी रोग नियन्‍त्रण अभियान

बच्चों को लगाई जा रही देश में बनी जेई की वैक्सीन

– जिले को हुआ है 15 हजार डोज वैक्सीन का आवंटन

– दूसरी डोज वालों को भी लगाई जाएगी देसी वैक्सीन

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती। उ0प्र0।

जापानी इंसेफेलाइटिस बीमारी से बचाव के लिए अब देश में बनी जेई की वैक्सीन बच्चों को लगाई जा रही है। अभी तक चीन में बनी वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा था। प्रथम चरण में जिले को 15 हजार डोज वैक्सीन का आवंटन किया गया है। जिन बच्चों को जेई की दूसरी डोज लगनी है, उन्हें भी देसी वैक्सीन ही लगाई जाएगी।

कोरोना की वैक्सीन निर्माता कंपनी भारत बॉयोटेक की बनी हुई जेई की वैक्सीन की आपूर्ति जिले में शुरू हो गई है। पहले चरण में 15 हजार डोज वैक्सीन मिली है, जिसका वितरण सीएचसी, पीएचसी को कर दिया गया है। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. एफ हुसैन ने बताया कि पुरानी वैक्सीन की ही तरह आधा एमएल का डोज देना है। एक वॉयल में पांच डोज है। पहले जेई की वैक्सीन बांह में लगाई जाती थी।

नई वैक्सीन बायें पैर के मध्य जांघ के आगे व बाहर की तरफ (इंट्रा मॉस्क्यूलर) लगाया जाना है। अगर किसी को जेई के टीके के साथ डीपीटी बूस्टर भी देना है तो लगाने वाली जगह से लगभग डेढ़ इंच (तीन उंगलियों का फासला होना चाहिए) के फासले पर इसे लगाया जा सकता है। डॉ. हुसैन ने बताया कि सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि अगर किसी लाभार्थी को पुरानी जेई वैक्सीन की पहली डोज लगाई गई है तो दूसरी डोज के तौर पर जेई की नई वैक्सीन उसे दी जा सकती है।

तरल रूप में उपलब्ध है वैक्सीन
डॉ. हुसैन ने बताया कि जेई की नई वैक्सीन तरल रूप में है। पहले वाली वैक्सीन को अलग से उपलब्ध लिक्विड मिलाकर घोलने की आवश्यकता होती थी। तरल रूप में वैक्सीन मिलने से अब यह समस्या नहीं रह गई है। नई वैक्सीन पर ओपल वॉयल पॉलिसी लागू है। वीवीएम वॉयल के लेबल पर है। इस वैक्सीन को खोलते समय तत्काल तारीख व समय डालना आवश्यक है। ओपन वॉयल पॉलिसी के तहत यह 28 दिन तक प्रयोग की जा सकेगी। इससे वैक्सीन के वेस्टेज की आशंका नहीं के बराबर रहेगी।