Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
सपा की बैठक में निकाय चुनाव पर चर्चाः जावेद पिण्डारी, समीर चौधरी निकाय चुनाव प्रभारी बने अनिश्चितकालीन पूर्ण कार्य बहिष्कार करने के दृष्टिगत सभी विद्युत उपकेन्द्रों पर जोनल/सेक्टर मजिस्ट्रे... अवैध अतिक्रमण करने वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर दर्ज कराएं एफआईआर: डीएम निकाय चुनाव के लिये ‘आप’ ने झोंकी ताकत, कार्यकर्ता सम्मेलन में बनी रणनीति जयन्ती पर याद किये गये प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद गोष्ठी के माध्यम से किसानों को दी गयी महत्वपूर्ण योजनाओं की जानकारी दीदी चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा विश्व विकलांग दिवस पर पर दिव्यांगों को किया गया सम्मानित पत्नी के अपहरण की आशंका, पति ने लगाया न्याय की गुहार सिर्फ रक्त और यौन सम्पर्क से फैलता है एड्स, मरीजों से न करें भेदभाव विश्व एड्स दिवस: डीएम ने फीता काटकर किया हस्ताक्षर अभियान का शुभारंभ

डीएम ने जिले के सभी ग्राम प्रधानों से किया राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम में सहयोग की अपील

कबीर बस्ती न्यूज,बस्ती।उ0प्र0।

जिलाधिकारी श्रीमती सौम्या अग्रवाल ने जिले के सभी ग्राम प्रधानों से अपील किया है कि राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के अंतर्गत जन्म से 19 वर्ष के आयु के बच्चों का जन्मजात कटे होंठ एवं तालू वाले बच्चों का सीएमओ कार्यालय में रजिस्ट्रेशन करा लें। उनका निःशुल्क उपचार कराया जाएगा। सभी ग्राम प्रधानों को भेजे गए अर्ध शासकीय पत्र में उन्होंने कहा है कि यह पंजीकरण 31 अक्टूबर तक किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि पंजीकरण का कार्य 21 अक्टूबर से शुरू हुआ है और अभी तक 20 बच्चों का रजिस्ट्रेशन किया जा चुका है। अधिक जानकारी के लिए स्माइल ट्रेन संस्था के प्रतिनिधि नीरज कुमार शर्मा के मोबाइल नं. 9454159999, 9565437056 पर संपर्क किया जा सकता है। यह सुविधा प्रत्येक दिन व निरन्तर जारी रहेगी।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 अनूप कुमार ने राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम से सम्बद्ध स्माइल ट्रेन प्रोजेक्ट के बारे में बताते हुये कहा कि कई बच्चों के होठ व तालू जन्मजात कटे होते हैं, और पूर्ण रूप से स्वस्थ बच्चे की मुस्कान ही उसका आत्मविश्वास जगाती है, और इस आत्मविश्वास को वापस लाने में अमेरिका की स्माइल ट्रेन प्रोजेक्ट के निदेशक डा0 वैभव खन्ना और प्रदेश का प्रख्यात अस्पताल हेल्थसिटी ट्रामा सेन्टर एवं सुपर स्पेशियालिटी हास्पिटल सार्थक भूमिका निभा रहे हैं। जन्मजात कटे होठ व कटे तालू के मरीजों की समस्या व उनके निदान के लिये निःशुल्क सुविधा को प्रदेश में प्रसारित करने की आवश्यकता है।
उन्होने बताया कि जन्मजात कटे होठ व तालू की समस्या लगभग 3000 से 5000 जीवित शिशुओं में से एक को हो सकती है। यह होठ के दोनो तरफ अथवा एक ही तरफ सम्भव है। सामान्यतः तालू के साथ होठ भी कटा होता है परन्तु कभी-कभी अकेले तालू के कटे होने की सम्भावना भी रहती है। इसके कारणों में किसी भी चीज की स्पष्ट भूमिका अभी तक नहीं प्रमाणित है।
नोडल अधिकारी आर0बी0एस0के0 डा0 सी0के0 वर्मा ने प्रोजेक्ट के बारे में बताते हुये कहा कि यह बीमारी बच्चों में जन्मजात होती है तथा प्लास्टिक सर्जरी द्वारा बच्चों के चेहरे पर मुस्कान वापस लाई जा सकती है। इस संस्था द्वारा किसी भी उम्र के लोगों का इलाज पूर्णतया निःशुल्क है। उन्होंने यह भी बताया कि अब तक इस प्रोजेक्ट के अंतर्गत डा0 वैभव खन्ना जी के नेतृत्व में 11000 से अधिक मरीजों का निःशुल्क सफल आपरेशन किया जा चुका है।
डा0 खन्ना ने बताया कि “स्माइल ट्रेन प्रोजेक्ट” के तहत जन्मजात कटे होठ व तालू की समस्या का समाधान पूर्णतया निःशुल्क किया जाता है। उन्होने बताया की ’जन्म से कटे होंठ- 5 माह के बाद, कटा तालू- 9 माह के बाद, आवाज़ के लिये- 5 से 7 वर्ष, मसूढ़े की हड्डी- 8 से 9 वर्ष ,एवं  चेहरे की बनावट -18 वर्ष पर की जानी चाहिए। उन्होने बताया कि 05 महीने से कम के बच्चे भी अपना पंजीकरण करवा कर इस सुविधा का लाभ उठा सकते है। हेल्थसिटी ट्रामा सेन्टर एवं सुपरस्पेशियालटी हास्पिटल में संचालित स्माइल ट्रेन प्रोजेक्ट का यही वास्तविक उद्देश्य है। यदि आपके बच्चे की उम्र उसके आगे निकल गयी है, तो भी सर्जरी हो सकती है पर सही समय पर सर्जरी कराने से नतीजा सामान्य से ज्यादा अच्छा होता है। यह सर्जरी किसी भी उम्र के रोगियों के लिये निःशुल्क उपलब्ध है।
डॉ नीरज त्रिपाठी आर0बी0एस0के0 ने बताया कि जन्मजात कटे होठ व तालू की विकृति सर्जरी व अन्य उपचारों से पूरी तरह ठीक हो सकती है। इसके सम्पूर्ण इलाज में क्रेनियोफेशियल व आर्थाेग्नैतिक सर्जरी जैसी प्रक्रियाओं का भी इस्तेमाल होता है। इस बात को प्रमुखता के साथ उल्लेखित किया गया कि बच्चों का सही समय पर इलाज कराने से यह जन्मजात विकृति पूर्णतयः सही हो सकती है। जब यह सुविधा निःशुल्क उपलब्ध हो गयी है, तो किसी भी गरीब मरीज के बच्चे को इस विकृति के साथ रहने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि पूर्ण रूप से ठीक बच्चे की मुस्कान ही उसको आत्मविश्वास दिलाती है और इस आत्मविश्वास को वापस दिलाना ही स्माइल ट्रेन प्रोजेक्ट का मुख्य ध्येय है। यह सुविधा मरीजों के लिए प्रत्येक दिन व निरंतर दिनों के लिए हैं।  पहले आपरेशन करवा चुके व परिणाम से असंतुस्ट मरीज भी निःशुल्क ऑपरेशन का लाभ उठा सकते है।
नोडल अधिकारी आर0बी0एस0के डॉ सी0 के0 वर्मा ने यह भी बताया कि इस निःशुल्क परीक्षण एवं पंजीकरण शिविर को सफल बनाने में समस्त आर0बी0एस0के0 टीमें व कार्यरत मोबाइल हेल्थ टीमों तथा आशा एच0बी0एन0सी0, स्वास्थ्य विभाग के समस्त कर्मचारियों और हेल्थसिटी हास्पिटल-स्माइल ट्रेन प्रोजेक्ट के प्रोजेक्ट अवेयरनेस असिस्टेन्ट नीरज कुमार शर्मा, पुष्पेन्द्र सिंह व अमित शर्मा आदि सकारात्मक भूमिका निभा रहे
है।