Logo
ब्रेकिंग न्यूज़
अयोध्या में बनेगा अनूठा मंदिरों का संग्रहालय, प्राचीन शैलियों के मंदिरों के बनाए जाएंगे कई मॉडल अंसल एपीआई के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने कसा शिकंजा, पुलिस कमिश्नर से अंसल के खिलाफ लखनऊ में दर्ज मु... कोटे के दूकान के आवंटन की मांगः डीएम को सौंपा ज्ञापन सदर विधायक महेन्द्र यादव ने मो. सलीम, शैलेन्द्र को बनाया प्रतिनिधि अदालत के आदेश के बाद भी नहीं मिला जमीन पर कब्जा, डीएम ने दिया कार्रवाई का निर्देश बच्चों के साथ ससुराल में शान्ती देवी ने शुरू किया धरना शासन के निर्देश पर हुआ परिषदीय स्कूलों की साफ—सफाई 01 जुलाई से 30 सितंबर तक संचालित किया जाएगा संभव अभियान,चिन्हित किये जायेंगे अतिकुपोषित बच्चे : सीडी... प्रतापगढ़: सिपाही संजय यादव की हत्या के मामले मे शामिल चार आरोपी पुलिस हिरासत में अलर्ट: प्रदेश में कोरोना संक्रमण के 682 नए मामले

फर्जी प्रमाणपत्र के सहारे 15 साल नौकरी कर रहे 10 बंदीरक्षक बर्खास्त, रिकवरी के आदेश

कबीर बस्ती न्यूज:

लखनऊ : शासन ने बड़ी कार्रवाई करते हुए फर्जी प्रमाणपत्र के सहारे 15 साल पहले कारागार विभाग में नौकरी पाने वाले 10 बंदीरक्षकों को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया है। नौकरी के पहले ही दिन से उनकी सेवाएं शून्य मानते हुए सेवाकाल के दौरान लिए गए वेतन व भत्तों की वसूली की जाएगी। जिला जेल के वरिष्ठ जेल अधीक्षक आशीष तिवारी ने बताया कि विजिलेंस की रिपोर्ट के बाद शासन के निर्देश पर लखनऊ मंडल की विभिन्न जेलों में तैनात इन जेलकर्मियों को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया गया है। उनसे रिकवरी का आदेश जारी कर दिया गया है।

इन बंदीरक्षकों ने वर्ष 2007 में खेलकूद व होमगार्ड समेत अन्य फर्जी प्रमाणपत्र लगाकर नौकरी हासिल की थी। केंद्र्रीय कारागार आगरा के तत्कालीन वरिष्ठ जेल अधीक्षक अंबरीश गौड़ की अगुवाई में गठित कमेटी ने इनकी भर्ती की थी। भर्ती पर सवाल उठे तो शासन ने विजिलेंस से इसकी जांच कराई गई थी।
भर्ती घोटाले में दोषी जेल अफसरों पर भी गाज गिरनी तय है। विजिलेंस टीम ने शासन को भेजी जांच रिपोर्ट में इन पर कार्रवाई की सिफारिश की है।
इनकी बर्खास्तगी
संयोग लता, प्रवीण कुमार, परिक्रमा दीन, दिनेश कुमार, अनिल यादव, राजकिशोर, आनंद प्रकाश, दान सिंह, संजय कुमार व शिव बहादुर।